11/11/2011

बारह घंटे

दिन के एक बजे पहुंचा था जब मैं यहां
तब बज रही थीं चूडि़यां
रो रहे थे बच्‍चे
चल रहा था टीवी
और सो रहे थे साहब...


बारह घंटे बीत चुके
कुछ भी नहीं बदला इस दरम्‍यान
खामोशी इतनी भी नहीं है
होनी चाहिए जो रात के एक बजे
गिलास के गिरने के बीच अचानक चीखता है एक बच्‍चा
और दोनों को थामने की कोशिश में
एक साथ
बज उठती हैं उसकी चूडि़यां फिर से

शायद ऐसा ही रोज़ होता होगा यहां
और हम गढ़ लेते हैं मुहावरे बैठे-बैठाए
कि बस
दिन के उजाले में जल चुका है आसमान
कह देते हैं
सुबह होने को है।

ये मेरे परिवार का एक विस्‍तार है
मेरे ही घर की औरत
मेरे ही घर के बच्‍चे
और साहब भी मेरे ही रिश्‍तेदार।

कैसे कहूंगा अगली बार 
कि असल सवाल दुनिया को समझने का नहीं
बदलने का है...
?



प्रकाशित सामग्री से अपडेट रहने के लिए अपना ई-मेल यहां डालें