12/02/2011

कृपया वाक्‍य सुधारें

ऐ लाल फ़रेरे तेरी कसम, हिंदी कभी सही नहीं लिखेंगे हम: फ़र्जी मुठभेड़ में माओवादी नेता किशनजी
की हत्‍या के खिलाफ़ बंग भवन के बाहर शुक्रवार को हुआ प्रदर्शन
ज़रा ज़ूम कर के देखिए: बैनर मुड़ा नहीं, बिल्‍कुल तना हुआ है
अर्थ का अनर्थ: ये गलती पेंटर की है!


1 टिप्पणी:

Rahul Singh ने कहा…

सोचनीय लापरवाही.

प्रकाशित सामग्री से अपडेट रहने के लिए अपना ई-मेल यहां डालें