3/02/2012

सुनिए दास्‍तानग़ोई

कहां तो तय था चराग़ां हरेक घर के लिए
कहां चराग़ मयस्‍सर नहीं शहर के लिए...

बिनायक सेन के खिलाफ़ राजद्रोह के मुकदमे पर सुनिए दानिश और फ़ारुकी की दास्‍तानग़ोई...

दास्‍तान-ए-सेडीशन

कोई टिप्पणी नहीं:

प्रकाशित सामग्री से अपडेट रहने के लिए अपना ई-मेल यहां डालें