10/15/2012

तालिबान के गढ़ में मलाला की आवाज़


तालिबान की ज्यादतियों के खिलाफ पिछले तीन वर्षों से बेख़ौफ़ आवाज़ बुलंद करने वाली 14 वर्षीय मलाला यूसुफ्जई को एक तालिबानी आतंकवादी ने गोली मार दी और वह अभी भी ज़िंदगी और मौत से संघर्ष कर रही है. इस छोटी बच्ची ने ख़ास तौर पर लड़कियों की शिक्षा पर रोक लगाने के तालिबानी फरमान के खिलाफ अभियान चलाया था. 

इस पूरे प्रकरण के बारे में हमें ज्यादा से ज्यादा लोगों तक जानकारी पहुंचानी चाहिए. मलाला का 2012 के एक interview का लिंक नीचे है जो सुनने लायक है। 






1 टिप्पणी:

Ek ziddi dhun ने कहा…

शनदार इंटरव्यू है। कितनी मैच्योर और स्पष्ट। इंटरव्यू लेने वाली मोहतरमा एफएम अनाउंसर टाइप हैं फिर भी मलाला अपनी बातें कह गईं। इन्सानियत पर उनका जोर था, जुल्म के खिलाफ चुप न रहने पर था। उनके पिता को भी सलाम। उन्होंने कहा कि मलाला जैसी बहुत सी लड़कियां हैं, बस उनके वालदैन उन्हें इजाजत नहीं देते।

प्रकाशित सामग्री से अपडेट रहने के लिए अपना ई-मेल यहां डालें