3/31/2013

Muslim Right: Baring Its True Fangs!



Why does it want to protect Razakars and Mass Murderers?

-Subhash Gatade

Any death is regrettable and those who died due to police fire may also come under this category. What is interesting is Jamaat’s modus operandi. The lone survivor of 14 December mass murder of intellectuals described in a recent TV documentary how Al Badr killed Prof Munier Chowdhury and others. Some were bitten with iron bars to death and at the final point; they would insert such bars into the head of their victims to ensure death. Jamaat-Shibir reportedly did exactly the same couple of weeks ago when they killed some police constables and others. It shows Jamaat-Shibir’s Standard Operating Procedure has remained unchanged for the last four decades...
(Rabiul H. Zaki, 1952, 1971, the genocide and Shahbagh, http://opinion.bdnews24.com/2013/03/16/language-movement-liberation-war-71-genocide-and-shahbagh/)
“The Pakistani soldiers unleashed a reign of terror on the soil of Bangladesh in 1971. They brutally killed innocent people, molested Bengali women and ruined the economy. The Jamaat leaders, Ghulam Azam and Matiur Rahman Nizami, issued the fatwa that those activities were permissible to save Islam” (Dr Mohammed Hannan, Page 252, Bangladeshe Fatwar Itihas, 1999).

I
What is common between Syed Md Nurur Rahman Barkati, Shahi Imam of Tipu Sultan Masjid, Kolkatta and Maulana Syed Athar Abbas Rizvi, imam, Cossipore Masjid or Md Qamruzzaman, general secretary, All Bengal Minorities Youth Federation ? Well, if media reports are to be believed then they would be the leading lights of a demonstration to be held on March 30th in Kolkata demanding stepping down of Bangladesh Prime Minister Sheikh Haseena's resignation. In fact, a dozen odd Muslim outfits are planning to hold the demonstration to protest against the verdict of the 'war crime tribunal’ against Jamaat-e-Islami’s leaders in connection with the atrocities committed by them during 1971’s Liberation War'. According to them the actions of the Bangladesh government was not only 'anti-Islam' but 'anti-humanity' as well. The organisers of the demonstration have said that if their demands are not met then they would appeal to the Indian government to severe all ties with Bangladesh.
Definitely this is not the first demonstration of its kind held by the various Islamist groups in this part of South Asia. Not some time ago, similar organizations had organised a protest in the city which had turned violent. It was in response to the death sentence given to Delawar Hossian Sayedee, the Vice President of Jamaat-e- Islami by a war crimes tribunal after he was found guilty for mass killing, rape and atrocities during the nine month war against Pakistan.
Karachi had also witnessed a demonstration in the second week of March led by the Jamaat-e-Islami (Pakistan) 'to protest the indictment of Jamaat-e-Islami (Bangladesh) war criminals of 1971 and the treatment of its activists by the Bangladesh government, judiciary and the police in the aftermath of the Shahbag movement against the Islamists in Dhaka.' President of Jamat-e-Islami of Punjab, Pakistan who participated in the demonstration reportedly insisted that, 'the sentenced leaders of the razakars (pro-Pakistan militias) were innocent.' Incidentally, close to this protest site a protest against the mob attack on the Christians of Badami Bagh ,Lahore by a rampaging mob of fanatics, was also held, although it was not as large. (The Express Tribune, 15 th March 2013)

Shahbag protesters in Dhaka

In fact, opposition of the Islamists to the new awakening in Bangladesh - popularly known as Shahbagh movement - which wants to reinvigorate the basic principles of secularism and democracy which became a basis for founding of the country, is not limited to civil society organisations or political groups alone. Leaders of many Islamic countries especially President of Egypt and Prime Minister of Turkey are reported to have written letters to their Bangladesh counterparts expressing their 'displeasure' over the war crimes tribunal. Few other Islamic countries have through informal channels also 'requested' the Bangladesh government to 'go slow' on the trials or ensure that 'violations of human rights' does not take place. Wittingly or unwittingly all such 'protests' or 'displeasures' about 'danger to Islam' or 'danger to humanity' or alleged concern over democratic rights violation which the ongoing trials have allegedly provoked make one thing very clear.
None of them want that the role of organisations like Jamat-e-Islami or or many of its not so illustrious leaders in the 1971 war of Bangladesh's independence is investigated afresh. They do not want to look into the fact that how many Jamaat activists became Razakars - literally volunteer - which was the paramilitary force organized by the Pakistan Army in East Pakistan during the Bangladesh Liberation War in 1971 and helped unleash untold miseries on nationalist Bengali suspects.  The Razakars received training at the hands of the Pakistan Army. Both organisations were later accused of having violated Geneva Conventions of War by raping, murdering and looting the locals.
In fact they want to dilute gravity of Jamaat's support to the Pakistan army and also cover up its shameful attempts to provide religious justifications of torture, rape and murder, arson etc under the specious plea that it has been more than 42 years that the developments took place, and it is time that people should 'move on' or 'forget and forgive'.
It needs emphasising that the demands of the Shahbagh protesters are not limited to trials of the war criminals , they have demanded that Jamat-e-Islami be banned and its financial sources be confiscated by the state. Launching the second phase of the movement on the 42 nd independence day of Bangladesh (26 th March) activists have reiterated their immediate demand of trial of the war criminals, many of whom are senior leaders of the Jamaat and strongly criticised the Awami League government for dilly dallying on their central demand of banning Jamaat-Shibir politics.
II
It is not difficult to understand why Islamists from this side of the border have suddenly woken up to the 'human rights' of all the Jamaatis, those very people who were involved in unspeakable crimes against humanity during that tumultuous period in the nation's history.
To be very frank, the Bangladesh Jamaat today finds itself in unforeseen situation, put on the defensive by the youth led uprising demanding capital punishment to the war criminals of 1971 coupled with the actions of the Awami League government against its leaders.A press release issued by the Jamat itself (http://www.jamaat-e-islami.org/en/newsdetails.php?nid=NzU0) on 20 th March 2013 describes how ' [t]he leadership of Jamaat is either in jail or is living in fear of arrest '
Its Ameer (i.e. President) is in jail. There are warrants of arrest issued against the Acting Ameer and he is now in hiding ..The party’s Secretary General is in jail. The two people who were subsequently appointed (one after the other) to replace him have also been arrested and are now in jail. The third person appointed is now avoiding arrest in fear of custodial torture.  Of the 7 Assistant Secretary Generals, 6 are in jail. 12 of the 16 member Executive Committee have been arrested. Of the 6 City Ameers in the 6 metropolitan cities, 2 is in jail, while the remaining 4 are in hiding.
At the grass-root level, the situation is far worse. 54 of the District Ameers in the 64 districts of Bangladesh have been arrested. The rest have warrants of arrest issued against them. All of the sub district (or Upazilla) Ameers in the 493 Sub Districts of Bangladesh have warrants issued against them and are now in hiding.
It is clear that none of the 'dozen odd Muslim organisations' who never miss a moment to talk about 'Umma' (community) and who would be participating in the Kolkata protest are really concerned about the impact of the depredations of their Bangladesh counterparts on the common masses - a majority of them happen to be Muslims only. They just want to save the skin of fellow Islamists from that side of the border despite their acts which were anti-human to say the least.
As already mentioned many of the Islamists have talked about the 'passage of time' and need to 'move on'. It is clear that in their hurry to save these Razakars they have either not thought over this proposition or would like to rake up the principle selectively.
Does a passage of time lessens the quest for justice or lessens the gravity of the crime ?
If that would have been the case, then the struggle for justice for the victims of Gujarat 2002 carnage or for that matter Babri Mosque demolition (1992) would have lost the case quite early. In fact, this logic to 'move on' has been used time and again by people in power whenever justice loving persons/formations have demanded that perpetrators of say massacre of Dalits at Kizzevanamani (1969), Nellie massacre (1983), which witnessed killing of more than 2,500 in a span of few hours (1983), the killings of innocent Sikhs in their thousands in 1984 after the assassination of Indira Gandhi, the genocide of innocents in Hashimpura (1986) and similar other carnages are punished. The moves by the powers that be to substitute justice by 'compensation' has always been questioned and challenged.
It is clear that people like Syed Md Nurur Rahman Barkati, Shahi Imam of Tipu Sultan Masjid, Kolkatta and Maulana Syed Athar Abbas Rizvi, imam, Cossipore Masjid and many of their ilk, who would be leading the demonstration on 30 th March are seriously jeopardising struggle for justice in all such cases  by their espousal of Bangladesh Jamat-e-Islami's cause. Their support to the handful of the razakars and murderers who have committed crimes against humanity and who have been indicted by the tribunal is nothing but a betrayal of the cause of the ordinary people of Bangladesh who struggled against heavy odds to live a life of dignity and free themselves from the yoke of Pakistan's subjugation.
Would all these people would have any moral right left tomorrow to speak for justice in other cases of genocide. What weight their voice would carry if they give a fiery speech in future demanding that perpetrators of Gujarat carnage be punished or justice should be done to all those Hindutva formations who were instrumental in the demolition of Babri Mosque. All of them would appear as nothing but windbags.
As an aside it needs mentioning that while the Pakistani army has expressed regrets that it made “mistakes” during the 1971 war but Jamaatis have yet to express any formal apology for their criminal actions. They have yet to say “sorry” to the nation and express sincere remorse over their actions which involved not only siding with enemies of the nascent Bangladesh but also their participation as hired mercenaries of the occupying army.
Lest anyone claim that it is mere propaganda it would be opportune here to quote Jamaat leaders themselves.
..On 20 June 1971, Ghulam Azam at a press conference at Lahore Airport said, “With support from many non-Muslims in East Pakistan, Sheik Mujib intends for secession. (Pakistan) Army has uprooted almost all miscreants from East Pakistan and now there is no power which can challenge the dominance of the army”.
..On August 12, 1971, Azam declared, “the supporters of the so-called Bangladesh Movement are the enemies of Islam, Pakistan, and Muslims”.
..On 5 August 1971, Matiur Rahman Nizami (then head of Al Badr) said “Allah entrusted the pious Muslims with the responsibility to save His beloved Pakistan. (But) when the Muslims failed to solve the political problem in a political way, then Allah saved His beloved land through the (Pakistan) army”.
( Courtesy : Daily Prothom Alo, 11 January 2012, a compilation of statements based on what was published in Jamaat’s own newspaper The Daily Sangram in 1971)

III
A section of the people are supporting the Jamat's cause under the pretext that the historic Shahbagh movement  is being led by youth who are atheists, un-Islamic. A cursory glance at the then East Pakistan (modern day Bangladesh) history makes it clear that this tactics of 'name calling' has been used by the Islamists since the days of the language movement (1948-52). Youths, who fought for such worthy causes, were then also called atheist and anti-Islamic and it is no surprise that today Jamaat-e-Islami and its apologists would call Shahbagh youths- “atheists”.
A longish extract from Rabiul H. Zaki's writeup (1952, 1971, the genocide and Shahbagh, http://opinion.bdnews24.com/2013/03/16/language-movement-liberation-war-71-genocide-and-shahbagh/) would make it clear how history is repeating itself.
Badruddin Umar in his book “Bhasa Andolon Proshongo, Kotipoy Dolil” (1995) included a treatise named “Pakistan Language Formula: A Scientific Study of the Language Problem of a “Uninational”, Ideological, Islamic State in a “Multilingual” Country” produced by Maulana Ragib Ahsan, Ex Member, Bangal Muslim League Parliamentary Board, Founder, Jamiat Ulema-I-Islam, March 1952. Among other things, Maulana Ahsan theorized the followings:
“The Worship of Language for the sake of Language or of Race and Homeland is the idolatry of the age and Pakistan has come to smash these idols and emancipate man from the slavery of Race, Language, territorial nationalism and materialism”. (page 77)
Bengali “far from being akin to Islamic spirit it is absolutely anti-Islamic and anti-Musalman in its origin, form and spirit. The “Musalmani Bengala” of the Muslamans is not fully developed and requires careful culture to bring it in tune with Islamic culture and ideology of Pakistan”. (page 80) ..
In a book named “Political History of Bangladesh” (2001), Dr Mohammed Hannan, says, “Prior to the general election in 1954, the Muslim League Government of Pakistan even gave a fatwa issued by their Moulavis that casting vote against the Muslim League would dissolve marriages of the concerned voters”. (Page 251)
In his memoir, “Amar Dekha Rajneeteer Ponchash Bochor” (1989) Abul Mansur Ahmed, provided a vivid description of the Muslim League and Pakistani mindset in 50’s and 60’s:
“They (i.e. leaders of Muslim League) started to say that opposition of Muslim League was akin to opposing Pakistan. Gradually they started to claim that Pakistan came into being for the wellbeing of Islam. In essence opposing Muslim League is opposing Pakistan, which in turn means opposing Pakistan means opposing Islam. …therefore opposition party in Pakistan means enemy of Pakistan and Islam”. (page 40)
While Islamist groups and politicians plan to protest in Kolkata in solidarity with the Razakars of the Jamaat -e-Islami, it is noteworthy that the ongoing movement has generated a different type of reaction among a section of the Muslim majority countries. Take the case of Pakistan. Pakistani band 'Laal' has paid a rich tribute to the Shahbagh protestors. A video of the song “Na Honay Pai”, released on the band’s Facebook page is said to been made with assistance from Bangladeshi group ‘Ei To Somoy’.
The description of the video says: “In this new work, we not only wish to express our solidarity with the Shahbag Movement in Bangladesh but also to speak about that unspoken part of our history that simply refuses to acknowledge the historical wrongs that were committed. Many people may find it disturbing; others will shower us with all sorts of abuse and accusations. We will face all these, speaking truth to power, and representing the point of view of all oppressed humanity without fear.
“No good will come of pretending that we have nothing to do with those events. All of us have a direct relationship to this past and cannot escape our role or responsibility in it. I feel a grave sense of historical duty to raise my voice against the atrocities committed. Similarly, I hope that my fellow Pakistanis, who today suffer from the same extremist forces in our own country, have the courage to recognise that all this has happened before and will happen again if we do not speak truth to power and if we do not stand for justice.”
A still from Shahbag movement, Dhaka 

Undoubtedly, the key demand of Shahbagh movement which talks of banning Jamaat politics and confiscating its financial sources in fact puts it far ahead of other democratic movements in most parts of the middle east. It tries to deal with the debate - about place of religion in politics - which is raging in the Muslim majority countries in a unique manner. Even a cursory glance at these countries makes it clear that citizenry of most of these Muslim majority nations not only want religion to be a part of their daily lives but are also keen about greater religious orientation in governance. Victory of Islamic Parties in many of the countries of the region, may it be Egypt, Turkey or Iraq and many other smaller countries makes it clear how the wind is blowing.
Peter Custers, international correspondent of 'The Daily Star' rightly puts it : "After all: here is a movement which does not just have an uneasy relation with Islamist parties. No, Bangladesh´s mass upsurge from its inception has borne the seal of secularism and tolerance, and is opposed to fundamentalist politics. Indeed, the South Asian country is not just re-living its own historical legacy, i.e. the secular spirit that pervaded the struggle for the country´s independence. Perhaps it is on its way to setting a fresh example for the Muslim world and for the West."

Email : subhash.gatade@gmail.com

3/25/2013

Do I file divorce paper, asks a sedition charged journalist!


Shyam Sunder, a journalist from Patna was kept in house arrest for 48 hrs in Vishakhapattanam. He had gone to meet his father-in-law Vijay Kumar Arya, who is a top maoist leader lodged in Vishakhapattanam Jail. Now Shyam Sunder has detailed the whole incident and raised some important questions. Here is the letter from him courtesy Bhadas4Media.com


Can I leave social life due to police atrocity or do I live with police atrocities like many common men live? Is it my fault being a relative of Vijaya Kumar Arya? How long days the parliament and the states assembly would silence on these questions? In such a situation every day I face new challenges for my survival. Now what I do now?

It was the year of May, 2005 I got married off with Shobha Kumari the daughter of Vijay Kumar Arya, a moist leader as police of Indian states said. I believe it was my unfortunate that I am a son in law of Vijay Kumar Arya and making this point as a base police has filed a case of sedition against me. Even I am facing trial in civil court Patna and running on bail. Vijay Kumar Arya what he is in personal life that doesn’t matter me and never intervened in their all affairs.

I respect him only as my father in law. Every now and then I visited near to him although he is in jail in Vishakhapatna. On 16th march, 2013 I went to Vishakhapatnam to see him. I met him in the jail and asked his wellbeing. After coming out from the jail I return back to my hotel room with my other colleagues but what was happened there with us was totally shockable. The Andhra police kept us HOUSE ARREST in hotel room for 48 hours.

Myself Shyam Sunder by profession a journalist and got my degree of Master in Journalism from MAKHAN LAL NATIONAL UNIVERSITY OF JOURNALISM, Bhopal in 2004. After passing out from the university I got job in DESHBANDHU and Navbharat, Bhopal. I worked there about a year then after I moved to Patna. In Patna I joined Leading Hindi Daily Hindustan as a crime reporter. In my career of journalism I got many more opportunity in different leading national Hindi dailies like Amar Ujala, Public Agenda and so on.

I left many questions in the above of this story kindly pass your suggestion for making my life easy going.

With Regards
Shyam Sunder
09470018502

Courtesy: Bhadas4Media

3/21/2013

कलकत्‍ता: जहां डॉन भी बेज़ुबान है...


अभिषेक श्रीवास्‍तव


हर चीज़ में राजनीतिक नाक घुसेड़ने की आदत बहुत बुरी है। कलकत्‍ता से लौटे मुझे कितने  दिन हो गए हैं। मन में, दिमाग में, ज़बान पर, फोन पर बातचीत में, सब जगह कलकत्‍ते का असर अब तक सघन है। बस, लिखा ही नहीं जा रहा। जैसा कलकत्‍ता मैंने देखा, सुना, छुआ, महसूस किया, उसका आभार किसे दूं? कायदा तो यह होता कि आज से चालीस बरस पहले का कलकत्‍ता मैंने देखा होता और आज दोबारा लौटकर बदलावों की बात करता। यह तो हुआ नहीं, उलटे एक ऐसे वक्‍त में मेरा वहां जाना हुआ जब वाम सरकार का पतन हो चुका था। मेरा रेफरेंस प्‍वाइंट गायब है और पॉलिटिकली करेक्‍ट रहने की अदृश्‍य बाध्‍यता यह कहने से मुझे रोक रही है कि जिस शहर को मैंने अपने सबसे पसंदीदा शहर के सबसे करीब जाना और माना, उसे ऐसा गढ़ने में तीन दशक तक यहां रहे वामपंथी शासन का हाथ होगा।

जहां हाथ रिक्‍शा एक विरासत है 
बनारस में यदि आप संरचनागत औपनिवेशिक भव्‍यता को जोड़ दें और प्रत्‍यक्ष ब्राह्मणवादी कर्मकांडों व प्रतीकों को घटा दें, तो एक कलकत्‍ते की गुंजाइश बनती है। दिल्‍ली या मुंबई में कोई भी काट-छांट कलकत्‍ता को पैदा नहीं कर सकती। ठीक वैसे ही कलकत्‍ते में कुछ भी जोड़ने-घटाने से दिल्‍ली या मुंबई की आशंका दूर-दूर तक नज़र नहीं आती। मसलन, रात के दस बज रहे हैं। चौरंगी पर होटल ग्रैंड के बाहर पटरी वाले अपना सामान समेट रहे हैं। उनके समेटने में किसी कमेटी या पुलिस वैन के अचानक आ जाने के डर से उपजी हड़बड़ी नहीं है। होटल के सामने बिल्‍कुल सड़क पर एक हाथ रिक्‍शा लावारिस खड़ा है, लेकिन उसके लिए उस वक्‍त लावारिस शब्‍द दिमाग में नहीं आता। ऐसा लगता है गोया आसपास की भीड़ में कहीं रिक्‍शेवाला ज़रूर होगा, हालांकि उसकी नज़र रिक्‍शे पर कतई नहीं होगी। दरअसल, रिक्‍शे पर किसी की भी नज़र नहीं है। और भी दृश्‍य हैं जिन पर किसी की नज़रें चिपकी नहीं दिखतीं। मसलन, लंबे से जवाहरलाल नेहरू मार्ग के काफी लंबे डिवाइडर पर दो व्‍यक्ति शहर से मुंह फेरे ऐसे बैठे हैं गोया उन्‍हें कोई शिकायत हो किसी से। या फिर, इस बात की शिकायत कि उन्‍हें इस शहर से कोई शिकायत ही नहीं। कुछ भी हो सकता है। बस, वे अदृश्‍य आंखें इस शहर के चप्‍पों पर चिपकी नहीं दिखतीं जैसा हमें दिल्‍ली में महसूस होता है, जहां राह चलते जाने क्‍यों लगता है कि कोई पीछा कर रहा हो। कोई नज़र रखे हुए हो। वहां पैर हड़बड़ी में होते हैं। गाडि़यां हड़बड़ी में होती हैं। दिल्‍ली की सड़कें भागती हैं, उनकी रफ्तार से बचने के लिए आपको और तेज़ भागना होता है। कलकत्‍ता सुस्‍त है, एक चिरंतन आराम की मुद्रा में लेटा हुआ, पसरा हुआ, लेकिन लगातार जागृत।

चौरंगी पर स्‍केटिंग: जिंदा शहर की जिंदा तस्‍वीर 
किसी ने कहा था कि कलकत्‍ता एक मरता हुआ शहर है। मैं नहीं मानता। मरती हुई चीज़ अपने पास किसी को फटकने नहीं देती। मृत्‍युगंध दूसरे को उससे दूर भगाती है। लेकिन कलकत्‍ता खींचता है, और ऐसे कि आपको पता ही नहीं लगता। आप कलकत्‍ते में होते हैं, ठीक वैसे ही जैसे कोई प्रेम में होता है। आप कलकत्‍ते में नहीं होते, जैसे कि आप प्रेम में नहीं होते, या कि दिल्‍ली में होते हैं। बहू बाज़ार के शिव मंदिर के बाहर ज्ञानी यादव रोज़ सुबह अपने हाथ रिक्‍शे के साथ खड़े मिल जाएंगे। छपरा के रहने वाले हैं। दिल्‍ली, फरीदाबाद के कारखानों में बरसों मजदूरी कर के आए हैं। दुनिया देखे हुए हैं। कारखाना बंद हो गया, तो कलकत्‍ता चले आए। परिवार गांव में है। कहते हैं कि दुनिया भर का सब आगल-पागल यहां बसा है। यह शहर किसी को दुत्‍कारता नहीं। अब यहां से जाने का उनका मन नहीं है। जो कमा लेते हैं, घर भेज देते हैं। रहने-खाने का खास खर्च नहीं है। दस रुपये में माछी-भात या रोटी सब्‍ज़ी अब भी मिल जाती है। कोई खास मौका हो तो डीम का आनंद भी लिया जा सकता है। डीम मने अंडा। हम जिस रात रेहड़ी-पटरी संघ के दफ्तर बहू बाज़ार में पहुंचे, हमारे स्‍वागत में डीम की विशेष सब्‍ज़ी तैयार की गई। करीब डेढ़ सौ साल एक पुरानी इमारत में यहां पुराने किस्‍म के कामरेड लोग रहते हैं। दिन भर आंदोलन, बैठक और चंदा वसूली करते हैं। हर रेहड़ी वाला इस दफ्तर को जानता है। पहली मंजि़ल पर दो कमरों के दरकते दफ्तर से पचास मीटर की दूरी पर कोने में एक अंधेरा बाथरूम है गलियारानुमा, जिसमें नलका नहीं है। ड्रम में भरा हुआ पानी लेकर जाना होता है और रोज़ सुबह वह ड्रम भरा जाता है पीले पानी से। यहां पानी पीला आता है। पीने का पानी फिल्‍टर करना पड़ता है। रात का खाना बिल्डिंग की छत पर होता है। कम्‍यूनिटी किचन- एक कामरेड ने यही नाम बताया था। पूरी छत पर बड़े-बड़े ब्‍लैकबोर्ड दीवारों में लगे हैं। बच्‍चों की अक्षरमाला भी सजी है। पता चलता है कि यहां कभी ये लोग बच्‍चों के लिए निशुल्‍क क्‍लास चलाते थे। क्‍यों बंद हुआ, कैसे बंद हुआ यह सब, कुछ खास नहीं बताते। सब सिगरेट पीते हैं, भात-डीम खाते हैं और बिना किसी शिकायत के सो जाते हैं। सुबह हर कोई अपने-अपने क्षेत्र में निकल जाता है हमारे उठने से पहले ही, बस बिशेन दा बैठे हुए हैं अखबार पढ़ते। वे बरसों पहले बांग्‍लादेश से आए थे। आज बांग्‍लादेश की समस्‍या पर कोई संगोष्‍ठी है, उसमें जाने की तैयारी कर रहे हैं। हमें भी न्‍योता है।

पुरानी भव्‍य इमारतों के बाहर ढहती-घिसटती जिंदगी 
बिशेन दा अकेले नहीं हैं। पूरा कलकत्‍ता ही लगता है बाहर से आया है। कलकत्‍ते में कलकत्‍ता के मूल बाशिंदे हमें कम मिले। जो मिले, वे अपने आप में इतिहास हैं। उनके बारे में या तो वे ही जानते हैं या उन्‍हें करीब से जानने वाले वे, जिन्‍होंने लंबा वक्‍त गुज़ारा है। मसलन, हम जिस इमारत में आकर अंतत: ठहरे, उसे किसी लेस्‍ली नाम के अंग्रेज़ ने कभी बनवाया था। किसी ज़माने में उसे लेस्‍ली हाउस कहा करते थे। करीब 145 साल पुरानी यह इमारत चौरंगी पर होटल ग्रैंड से बिल्‍कुल सटी हुई है, जो बाहर से नहीं दिखती। उसके पास पहुंचने के लिए बाहर लगे काले गेट के भीतर जाना होता है, जिसके बाद खुलने वाली लेन के अंत में एक छोटा सा प्रवेश द्वार है जिसकी दीवारों पर डिज़ाइनर कुर्ते, टेपेस्‍ट्री आदि लटके हुए हैं। वहीं से बेहद आरामदेह, निचली, चौड़ी सीढि़यां शुरू हो जाती हैं बिल्‍कुल अंग्रेज़ी इमारतों की मानिंद, जैसी हम इंडियन म्‍यूजि़यम में चढ़ कर आए थे। आज इस इमारत को मुखर्जी हाउस कहते हैं। जिनके नाम पर यह इमारत आज बची हुई है, वे बकुलिया इस्‍टेट के बड़े ज़मींदार हुआ करते थे। लोग उन्‍हें बकुलिया हाउस वाले मुखर्जी के नाम से जानते हैं। कलकत्‍ता में इनकी कई बिल्डिंगें हैं। कहते हैं कि संजय गांधी ने जब मथुरा में मारुति का कारखाना लगवाया, उस दौरान छोटी कारें बनाने का एक कारखाना इन्‍होंने भी वहां लगाया था। वह चल नहीं सका। हालांकि उनकी एक टायर कंपनी आज भी कारोबार कर रही है। 

सुहरावर्दी का नामलेवा नहीं 
बकुलिया हाउस वाले मुखर्जी ने कभी यह इमारत अंग्रेज़ से खरीदी थी। खरीदने के बाद दीवारें तुड़वा कर जब इसे दोबारा आकार देने की कोशिश की जा रही थी, तो दीवारों के भीतर से रिकॉर्डिंग स्‍टूडियो में इस्‍तेमाल किए जाने वाले गत्‍ते और संरचनाएं बरामद हुईं। पता चला कि इसमें न्‍यू थिएटर का स्‍टूडियो हुआ करता था जहां कुंदनलाल सहगल गाने रिकॉर्ड किया करते थे। धीरे-धीरे यह बात सामने आई कि वहीं एक डांसिंग फ्लोर भी होता था जहां हुसैन शहीद सुहरावर्दी रोज़ नाचने आते थे। सुहरावर्दी का नाम तो अब कोई नहीं लेता, हालांकि वे नेहरू के समकालीन पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री हुए। मिदनापुर में पैदा हुए थे, वाम रुझान वाले माने जाते थे और उनकी जीवनी में एक अंग्रेज़ ने लिखा है कि वे जितने दिन कलकत्‍ते में रहे, रोज़ शाम इस डांस फ्लोर पर आना नहीं भूले। हम जिस कमरे में सोए, पांच दिन रहे, उसकी दीवारों में सहगल की आवाज़ पैबस्‍त थी, उसकी फर्श पर सुहरावर्दी के पैरों के निशान थे।

पहली मंजि़ल पर ही एक और दरवाज़ा है हमारे ठीक बगल में, जो लगता है बरसों से बंद पड़ा हो। बाहर डॉ. एस. मुखर्जी के नाम का बोर्ड लगा है। डाक साब पुराने किरायेदार हैं, जि़ंदा हैं, बस बोल-हिल नहीं पाते। कहते हैं कि वे राज्‍यपाल को भी दांत का दर्द होने पर तुरंत अप्‍वाइंटमेंट नहीं दिया करते थे। दांत का दर्द जिन्‍हें हुआ है, वे जानते हैं कि उस वक्‍त कैसी गुज़रती है। दस बरस हो गए उन्‍हें बिस्‍तर पर पड़े हुए, इतिहास उन्‍हें फिल्‍म अभिनेता प्रदीप कुमार के दामाद के तौर पर आज भी जानता है। कलकत्‍ता का इतिहास सिर्फ मकान मालिकों की बपौती नहीं, किरायेदारों का इतिहास भी उसमें साझा है।

डॉ. मुखर्जी कभी मशहूर डेंटिस्‍ट थे। पुराने शहरों में पुराने डेंटिस्‍ट अकसर चीनी डॉक्‍टर मिलते हैं। जैसे मुझे याद है बनारस के तेलियाबाग में एक डॉ. चाउ हुआ करते थे। आज बनारस में इसके निशान भी नहीं बाकी, लेकिन कलकत्‍ता में अब भी चीनी डॉक्‍टर बचे हैं। मैंने ऐसे तीन बोर्ड देखे। कलकत्‍ता में मशहूर चाइना टाउन को छोड़ भी दें, तो यहां समूची दुनिया बरबस बिखरी हुई दिखती है। कलकत्‍ता से जुड़े बचपन के कुछ संदर्भ हमेशा बेचैन करते रहे हैं। ठीक वैसे ही, जैसे शाम पांच बजे दूरदर्शन पर गुमशुदा तलाश केंद्र, दरियागंज, नई दिल्‍ली का पता हमें दिल्‍ली से जोड़ता था। दरियागंज थाना जिस दिन पहली बार मैंने देखा, वह दिन और कलकत्‍ता में शेक्‍सपियर सरणी के बोर्ड पर जिस दिन नज़र पड़ी वह दिन, दोनों एक से कहे जा सकते हैं। जिंदगी के दो दिन एक जैसे हो सकते हैं। शेक्‍सपियर सरणी का नाम बचपन के दिनों में ले जाता है और ज़ेहन में अचानक कोई सिरकटा पीला डिब्‍बा घूम जाता है जिसे हम शौच के लिए इस्‍तेमाल में लाते थे। बरसों एक ही वक्‍त एक ही डिब्‍बे पर कॉरपोरेट ऑफिस शेक्‍सपियर सरणी लिखा पढ़ना अचानक याद आता है। डालडा का पीला डिब्‍बा, जिसे कभी हिंदुस्‍तान लीवर कंपनी बनाया करती थी, उसका दफ्तर यूनीलीवर हाउस यहीं पर है। सड़कें इंसानों को ही नहीं, स्‍मृतियों को भी जोड़ती हैं। मैंने शेक्‍सपियर को जब-जब पढ़ा, वह सिरकटा पीला डिब्‍बा याद आया, कलकत्‍ता याद आया। ऐसे ही लेनिन, हो ची मिन्‍ह, आदि के नाम पर यहां सड़कें हैं। शायद यह इकलौता शहर होगा जहां गलियां नहीं, सरणियां हैं।

सड़क का जनवाद: ट्राम, कार, पैदल, साइकिल, रिक्‍शा सब साथ 
ऐसी ही एक सरणी में उस दिन आग लगी थी। हम एक दिन पहले ही सुबह-सुबह प्रेसिडेंसी कॉलेज से होते हुए सूर्य सेन सरणी में टहल रहे थे। मास्‍टर सूर्य सेन सरणी से चटगांव याद आता है, चटगांव फिल्‍म याद आती है। अगले दिन सुबह वहां स्थित सूर्य सेन बाज़ार में आग लगने की खबर आई। बीस लोग मारे गए। दिल्‍ली में कहीं ऐसी आग लगती तो खबर राष्‍ट्रीय हो जाती, कलकत्‍ता में ऐसा नहीं हुआ। चौरंगी उस दिन भी अपनी रफ्तार से चलता रहा। इस शहर को कोई आग नहीं निगलती। बस बातें होती रहीं खबरों में कि शहर में अवैध इमारतें बहुत ज्‍यादा हैं जहां आग से लड़ने के सुरक्षा इंतज़ाम नहीं किए गए हैं। अवैध इमारतों को नियमित करने के नाम पर अब शहर उजाड़ा जाएगा, इसकी आशंका भी कुछ ने ज़ाहिर की। दरअसल, सरकार जिन्‍हें वैध इमारतें कहती है, उनकी संख्‍या इस विशाल महानगर में बमुश्किल दस लाख से भी कम है। बरसों पहले घर से भागकर शहर में बस गए बुजुर्ग लेखक-पत्रकार गीतेश शर्मा बताते हैं कि यहां कुछ बरस पहले तक मकानों और भवनों के मालिकाने का कंसेप्‍ट ही नहीं था। कोई भी इमारत, कोई भी मकान किसी के नाम से रजिस्‍टर्ड नहीं हुआ करता था। कोई मासिक किराया नहीं, सिर्फ एकमुश्‍त पेशगी चलती थी। जिस रेंटियर इकनॉमी की बात आज पूंजीवादी व्‍यवस्‍था के विश्‍लेषण में बार-बार की जाती है, वह अपने आदिम रूप में यहां हमेशा से मौजूद रही है। मसलन, अगर कोई बरसों से पेशगी देकर किसी भवन में रह रहा है तो उसे मकान मालिक निकाल नहीं सकता। किरायेदार को निकालने के लिए उसे पैसे देने होंगे, जिसके बाद वह चाहे तो बढ़ी हुई पेशगी पर कोई दूसरा किरायेदार ले आए। इस व्‍यवस्‍था ने शहर में रिश्‍तों को मज़बूत किया है, जिंदगी और व्‍यवसाय को करीब लाने का काम किया है, सबको समाहित करने का माद्दा जना है और नतीजतन बिजली की आग के लिए हालात पैदा किए हैं। शर्मा के मुताबिक यह परिपाटी अब दरक रही है, हालांकि अब भी कलकत्‍ता के पुराने ऐतिहासिक इलाकों में दिल्‍ली वाली खुरदुरी अपहचान ने पैर नहीं पसारे हैं। शायद इसीलिए बकुलिया हाउस के ज़मींदार मुखर्जी और किरायेदार डॉ. मुखर्जी दोनों ही यहां के इतिहास को बराबर साझा करते हैं।

शायद इसीलिए शर्मा जी से जब हम खालसा होटल का जि़क्र करते हैं, तो वे उसके मालिकान को झट पहचान लेते हैं। हमने इसके मालिक सरदारजी से जो सवाल पूछा, ठीक वही सवाल शर्मा जी ने भी बरसों पहले पूछा था। चौरंगी के सदर स्‍ट्रीट पर एक गली में खालसा होटल 1928 से जस का तस चल रहा है। जितना पुराना यह होटल है, उतनी ही पुरानी है वह आयताकार स्‍लेट जिस पर सरदारजी और उनकी पत्‍नी हिसाब जोड़ते हैं। हमने पूछा यह स्‍लेट क्‍यों? पूरी सहजता से वे बोले, ''देखो जी, जितनी बड़ी यह स्‍लेट है, आजकल उतने ही बड़े को टैबलेट कहते हैं। चला आ रहा है बाप-दादा के ज़माने से, पेपर भी बचता है।'' ऐसा लगता है गोया ग्राहक भी बाप-दादा के ज़माने से चले आ रहे हों। हमारे पीछे बैठे एक बुजुर्गवार रोज़ सुबह ग्‍यारह बजे के आसपास नाश्‍ता करने आते हैं। नाश्‍ता यानी रोटी और आलू-मेथी की भुजिया। वे बताते हैं कि इस शहर ने शरतचंद्र की कद्र नहीं की। रबींद्रनाथ के नाम पर यहां सब कुछ है, शरत के नाम पर कुछ भी नहीं। नज़रुल के नाम पर बस एक ऑडिटोरियम है। ''कवि सुभाष, कवि नज़रुल, ये भी कोई नाम हुआ भला? पता ही नहीं लगता क्‍या लोकेशन है?'' सरदारजी हामी भरते हैं, ''हम तो अब भी टॉलीगंज ही कहते हैं जी...।'' स्‍टेशनों का नया नामकरण तृणमूल सरकार आने के बाद किया गया है। लोगों की ज़बान पर पुराने नाम ही हैं। यहां नए से परहेज़ नहीं, लेकिन पुराने की उपयोगिता इतनी जल्‍दी खत्‍म भी नहीं होती। खालसा होटल की रसोई अब भी कोयले के चूल्‍हे से चलती है। गैस है, हीटर भी है, लेकिन तवे की रोटी चूल्‍हे पर सिंकी ही पसंद आती है लोगों को। लड़के कम हैं, सरदारजी खुद हाथ लगाए रहते हैं। उनकी पत्‍नी इधर ग्राहकों को संभालती हैं। ऑर्डर लेती हैं, हिसाब करती हैं। अंग्रेज़ों से अंग्रेज़ी में, हिंदियों से हिंदी में और बंगालियों से बांग्‍ला में संवाद चलता है। इस व्‍यवस्‍था को कंजूसी का नाम भी दे सकते हैं, लेकिन कंजूसी अपनी ओर खींचती नहीं। स्‍लेट खींचती है, चूल्‍हा खींचता है, और वह केले का पत्‍ता खींचता है जिसे खालसा होटल के बाहर गली में बैठे छपरा के मुसाफिर यादव पान लपेटने के काम में लाते हैं। कहते हैं कि इसमें पान ज्‍यादा देर तक ताज़ा रहता है। हो सकता है, नहीं भी। लेकिन महुआ को केले से कलकत्‍ता में टक्‍कर मिल रही है। पान लगाते वक्‍त मुसाफिर पास में कुर्सी पर बैठे एक अधेड़ चश्‍माधारी व्‍यक्ति से कुछ-कुछ कहते रहते हैं। ''कौन हैं ये?'' ''यहां के डॉन...'', बोल कर मुस्‍कराते हैं मुसाफिर। ''विंध्‍याचल में मंदिर के ठीक सामने घर है। यहां बहुत पैसा बनाए हैं... सब इनका बसाया हुआ है। यहां सब पटरी वाले मिर्जापुर, विंध्‍याचल के हैं, इन्‍हीं के लाए हुए। इनके कहे बिना पत्‍ता भी नहीं हिलता यहां।''

अबकी हमने गौर से देखा। लोहे की एक कुर्सी पर गली के किनारे बैठे डॉन टांगें फैलाए सामंत की मुद्रा में चारों ओर हौले-हौले देख रहे थे। मध्‍यम कद, गठीला बदन, पचास पार उम्र, आंख पर चश्‍मा और गाढ़ी-घनी मूंछ, जो अब तक पर्याप्‍त काली थी। बदन पर सफेद कुर्ता पाजामा। हाव-भाव में अकड़ साफ दिखती थी, एक रौब था, लेकिन उसमें शालीनता भी झलक रही थी। जैसे पुराने ज़माने के कुछ सम्‍मानित गुंडे हुआ करते थे, कुछ-कुछ वैसे ही। बस लंबाई से मात खा रहे थे और धोती की जगह पाजामा अखर रहा था। उनके सामने स्‍टूल पर कुछ पैसे रखे थे। हमें लगा शायद वसूली के हों, लेकिन मुसाफिर ने बताया कि यह दिन भर भिखारियों को देने के लिए है। जाने क्‍यों, डॉन को देखकर डर नहीं लग रहा था, बल्कि एक खिंचाव सा था। रात में हमने उन्‍हें उसी बाज़ार में एक हाथ रिक्‍शे पर टांगे मोड़ कर बैठे चक्‍कर लगाते भी देखा। फिर अगले चार दिन मुसाफिर के यहां पान लगवाते उन्‍हें देखते रहे, गोया वे कोई स्‍मारक हों, संग्रहालय की कोई वस्‍तु। ज्ञानी यादव ने जिन आगल-पागल का जि़क्र किया था, शायद वे मूर्तियों में बदल चुके ऐसे ही इंसान होंगे जिनकी आदत इस शहर को पड़ चुकी होगी। 

ट्राम की आदिम हैंडिल का खट-खट राग 
सहसा लगा कि मुझे ऐसे लोगों को देखने की आदत पड़ रही है। सवारी के इंतज़ार में बैठे हाथ रिक्‍शा वाले बुजुर्ग, ट्राम में निर्विकार भाव से हमेशा ही आदतन पांच रुपए का टिकट काटते बूढ़े और शांत बंगाली कंडक्‍टर, ड्राइवर केबिन में पुराने पड़ चुके पीले दमकते लोहे की आदिम हैंडिल को आदतन दाएं-बाएं घुमाते लगातार खड़े चालक, चौरंगी के पांचसितारा होटल के बाहर पिछले तेरह बरस से नींबू की चाय बेच रहे अधेड़ शख्‍स, सब संग्रहालय की वस्‍तु लगते थे। उन्‍हें देखकर खिंचाव होता था, इसलिए नहीं कि उनसे संवाद हो बल्कि इसलिए कि उनमें कुछ तो हरकत हो। जिंदगी की ऐसी दुर्दांत आदतें देखने निकले हम पहले ही दिन इस शहर को भांप गए थे जब हमारी ट्राम चलते-चलते शोभा बाज़ार सूतानुटी पहुंच गई और हम बीच में ही कूद पड़े।

सूतानुटी- यह शब्‍द हफ्ते भर परेशान करता रहा। किसी ने बताया कि शायद वहां सूत का काम होता रहा हो, इसलिए सूतानुटी कहते हैं। दरअसल, अंग्रेज़ी ईस्‍ट इंडिया कंपनी के प्रशासक जॉब चार्नाक ने जिन तीन गांवों को मिलाकर कलकत्‍ते की स्‍थापना की, उनमें एक गांव सूतानुटी था। बाकी दो थे गोबिंदपुर और कलिकाता। चार्नाक खुद सूतानुटी में ही बसे। आज सूतानुटी सिर्फ शोभा बाज़ार के नाम के साथ लगा हुआ मिलता है और इससे पहचान की जाती है उस इलाके की, जिसे फिल्‍मकार जॉर्गन लेथ ने लार्स वॉन ट्रायर के पूछने पर दुनिया का नर्क कहा था। इसी नर्क को लोग सोनागाछी के नाम से जानते हैं। सोनागाछी को लेकर तरह-तरह की कल्‍पनाएं हैं, मिथक हैं, कहानियां हैं। जिंदगी के अंधेरे कोनों में सोनागाछी एक कामना है, ईप्‍सा है, लालसा है। जिंदगी की धूप में सोनागाछी लाखों लोगों के लिए रोटी है, पानी है। कहते हैं कि यह एशिया का सबसे बड़ा यौनकर्म केंद्र है। सैकड़ों कोठे और हज़ारों यौनकर्मी- जैसा हमने पढ़ा है। बेशक, ऐसा ही होना चाहिए। रबींद्र सरणी पर बढ़ते हुए शाम के आठ बजे अचानक बाएं हाथ एक गली में सजी-संवरी लड़कियां कतार में दीवार से चिपकी खड़ी दिखती हैं। बाहर जिंदगी अनवरत जारी है। भीतर गलियों में जाने पर एक विशाल मंडी अचानक नज़रों के सामने खुलती है, कहीं कतारबद्ध, कहीं गोलियाए, कहीं छितराए- सिर्फ औरतें ही औरतें। हमें डराया गया था, चेताया गया था, लेकिन जिन वजहों से, वे शायद ठीक नहीं थीं। हमें डर लगा वास्‍तव में, लेकिन उन वजहों से जिनसे इंसान भेड़ों में तब्‍दील हो जाते हैं। इस इलाके की पूरी अर्थव्‍यवस्‍था देह के व्‍यापार से चलती है और यह इलाका इतना छोटा भी नहीं। यह दिल्‍ली के श्रद्धानंद मार्ग जितना सघन भी नहीं, कि अमानवीय होने की भौगोलिक सीमा को छांट कर इंसानी सभ्‍यता को कुछ देर के लिए अलग कर लिया जाए। यहां जिंदगी और धीरे-धीरे मौत की ओर बढ़ती जिंदगी के बीच फर्क करना मुश्किल है। देवघर का पानवाला, समस्‍तीपुर का झालमूड़ी वाला, आगरे का मिठाई वाला, कलकत्‍ता का चप्‍पल वाला, सब यहीं सांस लेते हैं, जिंदा रहते हैं। चप्‍पल वाला कहता है, ''आगे जाइए, वर्ल्‍ड फेमस जगह है, बहुत कुछ देखने को मिलेगा...।'' दिल्‍ली में अजमेरी गेट से आगे निकलते ही अगर पूछें, तो इस सहजता से श्रद्धानंद मार्ग जाने को कोई कहता हुआ मिले, यह कल्‍पना करना कठिन है। दिल्‍ली में जो नज़रें पीछा करती हैं, उनमें इंसान और इंसान के बीच फांक होती है। वहां हिकारत है, अंधेरी बदनाम सड़कों पर जाना आपको संदिग्‍ध बनाता है। कदम-कदम पर निषेधाज्ञाएं हैं। यहां नहीं है। इसीलिए हम बड़ी आसानी से सोनागाछी में घुस जाते हैं, टहल कर निकल आते हैं और करीब आधे घंटे के इस तनाव में सिर्फ एक शख्‍स करीब आकर कान में पूछता है, ''चलना है क्‍या सर...?'' हमारी एक इनकार उसके लिए काफी है।

यह शहर एक संग्रहालय की तरह आंखों के सामने खुलता है 
सोनागाछी कलकत्‍ता के बाहर से विशिष्‍ट लगता है, लेकिन वहां रहते हुए उसकी जिंदगी का एक हिस्‍सा। ज़रूरी हिस्‍सा। चूंकि शोभा बाज़ार, गिरीश पार्क, बहू बाज़ार, बड़ा बाज़ार और यहां तक कि चितपुर में जिंदगी इतनी सघन और संकुचित है; चूंकि बसों और मेट्रो में मौजूद महिलाओं का होना अलग से नहीं दिखता; चूंकि गली में खड़ी लड़की और गली के बाहर एक दुकान पर बैठी सामान बेचती लड़की एक ही देश-काल को साझा करती है; चूंकि बाहर से आया आदमी अमानवीयता की सीमा को पहचान नहीं पाता; चूंकि यहां जितना व्‍यक्‍त है उतना ही अव्‍यक्‍त; चूंकि एक दायरा है जिसमें सब, सभी को जानते हैं, पहचानते हैं और इसीलिए एक साथ बराबर खुलते या बंद होते हैं; इसलिए यह शहर एक भव्‍य संग्रहालय की मानिंद हमारे सामने खुलता है। इसके लोग जिंदगी जीते हैं अपने तौर से, जहां की खटर-पटर शायद हम सुन नहीं पाते या फिर जिंदगी की आवाज़ ने खटराग को अपने भीतर समो लिया है। इसका कलकत्‍ता की सड़कों से बेहतर समदर्शी और क्‍या हो सकता है। जितनी और जैसी जिंदगी घरों-मोहल्‍लों में, उतनी ही सड़कों पर। ट्राम, कार, टैक्‍सी, पैदल, ठेला, हाथ रिक्‍शा, बस, मिनीबस, ट्रक, सब कुछ एक साथ सह-अस्तित्‍व में है। बड़ा बाज़ार एक आदर्श पिक्‍चर पोर्ट्रेट है। किसी को कोई रियायत नहीं। सड़क पर बिछी पटरियां हैं, पटरियों में धंसी सडक। ट्राम का होना और नहीं होना दोनों एक किस्‍म के अनुशासन से बंधा है। एक साथ दो दिशाओं से दो ट्रामें आती हैं, तब भी यह अनुशासन नहीं बिगड़ता।

जिसे हम सह-अस्तित्‍व कह रहे हैं, वही इस शहर का जनवाद है। ज़ाहिर है यह एक दिन में नहीं पनपा होगा। किसी भी शहर की संस्‍कृति एक दिन में नहीं बनती। उत्‍तरी 24 परगना के रहने वाले कलकत्‍ता में ही पले-बढ़े टैक्‍सी ड्राइवर सुबोध बताते हैं, ''यह शहर ज़रा सुस्‍त है। बंगाली आदमी खट नहीं सकता। उसकी प्रकृति में ही नहीं है। इसीलिए यहां खटने वाला सब काम बिहारी लोग करता है।'' ज़ाहिर है, जो शहर खटता नहीं, वह सोचता होगा। सोचने वाले शहर का पता इसकी कला, साहित्‍य, सिनेमा, संस्‍कृति आदि में ऊंचाई से मिलता है। बनारस और इलाहाबाद खुद को इस मामले में इसीलिए कलकत्‍ता के सबसे करीब पाते हैं। यह बात अलग है कि जनवाद के प्रत्‍यक्ष निशान जो कलकत्‍ता में हमें दिखते हैं, वे निश्चित तौर पर पब्लिक स्‍पेस में वाम सरकार के दखल का परिणाम होंगे। ठीक वैसे ही, जैसे बनारस धार्मिक प्रतीकों से पटा पड़ा है चूंकि वहां ब्राह्मणवाद के मठों का राज रहा है। यह ब्राह्मणवाद अपने अभिजात्‍य स्‍वरूप में बहुत महीन स्‍तर पर कलकत्‍ता में अभिव्‍यक्‍त होता है, बनारस जैसा स्‍थूल नहीं। गीतेश शर्मा इसे वाम की कामयाबी के तौर पर गिनाते हैं। वरना क्‍या वजह हो सकती थी कि कालीघाट के प्रसिद्ध काली मंदिर में मिथिला के पंडों का राज है, बंगालियों का नहीं? इस वाम प्रभाव का एक और संकेत यह है कि देश के बाकी शहरों की तरह यहां गांधी-नेहरू परिवार के नाम पर भवनों, सड़कों, पार्कों, चौराहों का आतंक नहीं है। इस लिहाज से कलकत्‍ता आज़ादी के बाद देश भर में पसरे कांग्रेसी परिवारवाद का एक एंटी-थीसिस बन कर उभरता है जिसे लेनिन, शेक्‍सपियर, कर्जन, लैंसडाउन जैसे नाम वैभव प्रदान करते हैं।

यह जनवाद मूल बाशिंदों की बुनियादी ईमानदारी में भी झलकता है। मैं एक दुकान पर रात में चार सौ रुपए भूल आता हूं और अगली दोपहर मुझे बड़ी सहजता से वे पैसे लौटा दिए जाते हैं। यह घटना कलकत्‍ता के बाहरी इलाके में घटती है, बनहुगली के पार डनलप के करीब। बाहरी इलाके आम तौर पर शहर की मूल संस्‍कृति से विचलन दिखाते हैं, एक कस्‍बाई लंपटता होती है ऐसी जगहों पर। कलकत्‍ता में ऐसा नहीं है, तो इसलिए कि लोगों में अब भी सरलता-सहजता बची है। मुख्‍य चौराहों पर ट्रैफिक लाइट को भीड़ के हिसाब से नियंत्रित करने के लिए बिजली के डिब्‍बे के भीतर बटन दबाते रहने वाले यातायात पुलिसकर्मी का हाथ इस जनवाद की विनम्र नुमाइश है। कोई सेंट्रल कंट्रोल रूम नहीं जो शहर की भीड़ को एक लाठी से हांकता हो। जैसी भीड़, वैसी बत्‍ती। सफेद कपड़ों में गेटिस वाली पैंट कसे चौराहे पर तैनात ट्रैफिक पुलिसवाला जब रास्‍ता बताता है, तो उससे डर नहीं लगता। जिस शहर में पुलिस से डर नहीं लगता, वहां के लोग क्‍या खाक डराएंगे। इंसान, इंसान से महफूज़ है। यही कलकत्‍ता की थाती है। बिशेन दा ने बातचीत में कहा था कि कलकत्‍ता में बम नहीं फूटता, दिल्‍ली, मुंबई, हैदराबाद में फूटता है। इस बात पर किसी ने गौर किया कि नहीं, मैं नहीं जानता। लेकिन यह सच तो है।

आखिरी दिन हम मुसाफिर के यहां खड़े पान बंधवा रहे थे। उधर कुर्सी पर बैठा डॉन कुछ अजीब सी आवाज़ें निकाल रहा था। उसे देखने की आदत में यह असामान्‍य हरकत हमें नागवार गुज़रती है। अचानक वह उठता है, गली में बहती नाली के सामने खड़े होकर नाड़ा खोल देता है। सरेआम पेशाब की तेज़ धार से हमारा ध्‍यान टूटता है। मैंने पूछा, ''कैसी आवाज़ निकाल रहे थे ये?'' ''प्रैक्टिस कर रहे थे बोलने की... हर्ट अटैक हुआ था न, तब से आवाज़ चली गई है'', मुसाफिर जाते-जाते इस शहर का आखिरी राज़ खोलते हैं। जो अब तक संग्रहालय की वस्‍तु थी, वह अचानक सहानुभूति का पात्र बन जाती है। मित्र कहते हैं, यह कलकत्‍ता है महराज, जहां का डॉन भी बेज़ुबान है। कौन नहीं रह जाएगा इस शहर में? चंपा ठीक कहती थी, कलकत्‍ते पर बजर गिरे...।

पिया गइलन कलकतवा ए सजनी... 



 (अतिरिक्‍त तस्‍वीरों के साथ प्रतिरोध डॉट कॉम से साभार) 

3/16/2013

लाश के इंतज़ार में एक मज़ार: अरुंधति राय

अरुंधति राय 

अफज़ल गुरु की सुनवाई पर दिसंबर 2006 में एक किताब आई थी ''13 दिसंबर- दि स्‍ट्रेंज केस ऑफ दि अटैक ऑन दि इंडियन पार्लियामेंट: ए रीडर''। इस पुस्‍तक को पेंगुइन ने छापा था जिसमें अरुंधति रॉय, नंदिता हक्‍सर, प्रफुल्‍ल बिदवई आदि कई लोगों के लेख थे। अब अफज़ल को फांसी हो जाने के बाद इस किताब का नया संस्‍करण आया है जिसका नाम है ''दि हैंगिंग ऑफ अफज़ल गुरु एंड दि स्‍ट्रेंज केस ऑफ दि अटैक ऑन दि इंडियन पार्लियामेंट'', जिसकी नई भूमिका अरुंधति ने लिखी है। प्रस्‍तुत है वह भूमिका। अनुवाद किया है जितेन्‍द्र कुमार ने।  


नई दिल्ली की जेल में ग्यारह साल के बाद, जिसमें से ज्यादातर वक्त एकांत में कालकोठरी में मृत्युदंड की प्रतीक्षा में बीता था, फरवरी की एक साफ-सुथरी सुबह, अफज़ल गुरु को फांसी पर लटका दिया गया। भारत के एक पूर्व सॉलिसिटर जनरल सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठ अधिवक्ता ने इसे हड़बड़ी में छुपाकर लिया गया फैसला बताया है; फांसी दिए जाने का यह ऐसा फैसला, जिसकी वैधता पर गंभीर प्रश्न चिह्न लग गए हैं।

जिस व्यक्ति को देश के सर्वोच्च न्यायालय ने तीन उम्र कैद और दो मृत्युदंड की सजा तजबीज की हो और जिसे लोकतांत्रिक सरकार ने फांसी पर लटकाया हो, उस प्रक्रिया पर वैधानिक प्रश्न कैसे लगाया जा सकता है? क्योंकि फांसी पर लटकाए जाने के सिर्फ दस महीने पहले अप्रैल 2012 में सुप्रीम कोर्ट में वैसे कैदियों की याचिका पर कई बैठकों में सुनवाई पूरी हुई थी जिसमें कैदियों को बहुत ज्यादा समय तक जेल में रखा गया है। उन कई मुकदमों में एक मुकदमा अफज़ल गुरु का भी था जिसमें सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने अपना फैसला सुरक्षित रखा है। लेकिन अफज़ल गुरु को फैसला सुनाए जाने से पहले ही फांसी दे दी गई है

सरकार ने अफज़ल के परिवार को उनका शरीर सौंपने से मना कर दिया है उनके शरीर को अंतिम रस्म किए बगैर जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के संस्थापक मकबूल भट्ट, जो कश्मीर की आज़ादी के सबसे बड़े आइकन थे, की कब्र के बगल में दफ़ना दिया गया। और इस तरह तिहाड़ जेल की चहारदीवारी के भीतर ही दूसरे कश्मीरी की लाश अंतिम रस्म अदा किए जाने की प्रतीक्षा कर रही है। उधर कश्मीर में मज़ार--शोहदा के कब्रिस्तान में एक कब्र लाश के इंतजार में खाली पड़ी है। जो लोग कश्मीर को जानते-समझते हैं वे अच्छी तरह जानते हैं कि कैसे कल्पित, भूमिगत आदमकद कोटरों ने अतीत में कितने चरमपंथी हमलों को जन्म दिया है।

दिसंबर 2006 में छपी मूल पुस्‍तक 
हिन्दुस्तान में, ‘कानून का राज कायम होनेका ढिंढोरा पीटे जाने का जश्न थम गया है, सड़कों और गलियों में गुंडों द्वारा फांसी पर चढ़ाए जाने की खुशी में मिठाई बंटनी बंद हो गई है (आप कितनी देर बिना चाय ब्रेक के मुर्दे के पोस्टर को फूंक सकते हैं?), कुछ लोगों को फांसी की सज़ा दिए जाने पर आपत्ति जताने और अफज़ल गुरु के मामले में निष्पक्ष सुनवाई (फेयर ट्रायल) हुई या नहीं, कहने की छूट दे दी गई। वह बेहतर और सामयिक भी था, एक बार फिर हमने ज़मीर से लबालब जनतंत्र देखा। 

बस उन बहसों को नहीं देख सके जो छह साल पहले ही चार साल देर से शुरू हुई थीं। सबसे पहले यह किताब 2006 के दिसंबर में छपी थी जिसके पहले भाग के लेखों में विस्तार से सुनवाई के बारे में चर्चा हुई है। इसमें कानूनी विफलता, ट्रायल कोर्ट में उन्हें वकील नहीं मिलने की बात, कैसे सूत्रों की तह तक नहीं जाया गया और उस समय मीडिया ने कितनी घातक भूमिका निभायी, सब कुछ है। 

इस नए संस्करण के दूसरे खंड में फांसी दिए जाने के बाद लिखे गए लेखों और विश्लेषणों का एक संकलन है। पहले संस्करण के प्राक्‍कथन में कहा गया है- 'इसलिए इस पुस्तक से एक आशा जगती है', जबकि यह संस्करण गुस्से में प्रस्तुत किया गया है।

इस प्रतिहिंसक समय में, अधीरता से कोई भी यह पूछ सकता है: विवरणों और कानूनी बारीकियों को छोड़िए, क्या वह दोषी था या वह दोषी नहीं था? क्या भारत सरकार ने एक निर्दोष व्यक्ति को फांसी पर लटका दिया है?

नया संस्‍करण 
जो भी व्यक्ति इस किताब को पढ़ने का कष्ट करेगा, वह इस निष्कर्ष पर पहुंचेगा कि अफज़ल गुरु के ऊपर जो आरोप लगाए गए थे, उसके लिए वह दोषी साबित नहीं हुआ था- भारतीय संसद पर हमला रचने का षडयंत्रकारी या फिर जिसे फैशन में 'भारतीय लोकतंत्र पर हमला' भी कहा जाता है (जिसे मीडिया लगातार गलत तरीके से अपराधी ठहराता रहा है जबकि अभियोजन पक्ष द्वारा उस पर हमला करने का आरोप नहीं लगा है और ही उन्हें किसी का हत्यारा कहा गया है। उसके ऊपर हमलावरों का सहयोगी होने का आरोप था) सुप्रीम कोर्ट ने इस अपराध के लिए उन्हें दोषी पाया और उन्हें फांसी की सज़ा दी। अपने इस विवादास्पद फैसले में, जिसमें समाज के सामूहिक विवेक को तुष्ट करने के लिएकिसी को फांसी पर लटका दिए जाने की बात कही गई है, उनके खिलाफ कोई प्रत्यक्ष सबूत नहीं था, केवल परिस्थितिजन्य साक्ष्य थे।

आतंकवाद विशेषज्ञ और अन्य विश्लेषक गौरव के साथ बता रहे हैं कि ऐसे मामलों में 'पूरा सच' हमेशा ही मायावी होता है। संसद पर हमले के मामले में तो बिल्कुल  यही दिखता है। इसमें हम 'सच' तक नहीं पहुंच पाए हैं। तार्किक रूप से, न्यायिक सिद्धांत के अनुसार 'उचित संदेह' की बात उठनी चाहिए थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। एक आदमी को जिसका अपराध महज उचित संदेह से परेस्थापित नहीं हो पाया, फांसी पर लटका दिया गया।

चलिए हम मान लेते हैं कि भारतीय संसद पर हमला हमारे लोकतंत्र पर हमला है। तो क्या 1983 में तीन हज़ार 'अवैध बांग्लादेशियों का नेली नरसंहार क्या भारतीय लोकतंत्र पर हमला नहीं था? या 1984 में दिल्ली की सड़कों पर तीन हज़ार से अधिक सिखों का नरसंहार क्या था1992 में बाबरी मस्जिद का विध्वंस भारतीय लोकतंत्र पर हमला नहीं था क्या? 1993 में मुंबई में शिवसैनिकों के नेतृत्व में हज़ारों मुसलमानों की हत्या भारतीय लोकतंत्र पर हमला नहीं थागुजरात में 2002 में हुए हज़ारों मुसलमानों का नरसंहार क्या थावहां प्रत्यक्ष और परिस्थितिजन्य, दोनों प्रकार के सबूत हैं जिसमें बड़े पैमाने पर हुए नरसंहारों में हमारे प्रमुख राजनीतिक दलों के नेताओं के तार जुड़े हैं। लेकिन ग्यारह साल में क्या हमने कभी इसकी कल्पना तक की है कि उन्हें गिरफ्तार भी किया जा सकता है, फांसी पर चढ़ाने की बात को तो छोड़ ही दीजिए। खैर छोड़िए इसे। इसके विपरीत, उनमें से एक को- जो कभी किसी सार्वजनिक पद पर नहीं रहे- और जिनके मरने के बाद पूरी मुंबई को बंधक बना दिया था, उनका राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। जबकि दूसरा व्यक्ति अगले आम चुनाव में दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में प्रधानमंत्री बनने का सपना देख रहा है।

इस ठंड, बुज़दिली भरे रास्ते में, खाली, अतिरंजित इशारों की नकली प्रक्रिया के तहत भारतीय मार्का  फासीवाद हमारे ऊपर खड़ा हुआ है।

श्रीनगर के मज़ार--शोहदा में, अफज़ल की समाधि के पत्थर (जिसे पुलिस ने हटा दिया था और बाद में जनता के आक्रोश की वजह से फिर से रखने के लिए बाध्य हुई) पर लिखा है:

देश का शहीद, शहीद मोहम्मद अफज़ल, शहादत की तिथि 9 फरवरी 2013, शनिवार। इनका नश्वर शरीर भारत सरकार की हिरासत में है और अपने वतन वापसी का इंतज़ार कर रहा है।

हम क्या कर रहे हैं, यह जानते हुए भी अफज़ल गुरु को एक पारंपरिक योद्धा के रू में वर्णन करना काफी कठिन होगा। उनकी शहादत कश्मीरी युवकों के अनुभवों से आती है जिसके गवाह दसियों हज़ार साधारण युवा कश्मीरी रहे हैं। उन्हें तरह-तरह की यातनाएं दी जाती हैं, उन्हें जलाया जाता है, पीटा जाता है, बिजली के झटके दिए जाते हैं , ब्लैकमेल किया जाता है और अंत में मार दिया जाता है।( उन्हें क्या-क्या यातनाएं दी गईं उसका विवरण आप परिशिष्ट तीन में पढ़ सकते हैं) जब अफज़ल गुरु को अतिगोपनीय तरीके से फांसी पर लटका दिया गया, उन्हें फांसी पर लटकाए जाने की प्रक्रिया को बार-बार प्रहसन के रूप में पर्दे पर दिखाया गया, जब पर्दा नीचे सरका और रोशनी आई तो  दर्शकों ने उस प्रहसन की तारीफ की। समीक्षाएं मिश्रित थीं लेकिन जो कृत्य किया गया था, वह सचमुच ही बहुत घटिया था।

'पूरा' सच यह है कि अब अफज़ल गुरु मर चुका है और अब शायद हम कभी नहीं जान पाएंगे कि भारतीय संसद पर हमला किसने किया था। भारतीय जनता पार्टी से उसका भयानक चुनावी नारा लूट लिया गया है: 'देश अभी शर्मिंदा है, अफज़ल अभी भी जि़ंदा है' अब भाजपा को एक नया नारा तलाशना होगा।

गिरफ्तारी से बहुत पहले अफज़ल गुरु एक इंसान के रूप में पूरी तरह टूट चुका था। अब जब कि वह मर चुका है, उनकी सड़ी लाश पर राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश की जा रही है। लोगों के गुस्से को भड़काया जा रहा है। कुछ समय के बाद हमें उनकी चिट्ठियां मिलेंगी, जो उसने कभी लिखी नहीं, कोई किताब मिलेगी, जो उसने लिखी नहीं। साथ ही, कुछ ऐसी बातें भी सुनने को मिलेंगी जो उन्होंने कभी कही नहीं। यह बदसूरत खेल बदस्तूर जारी रहेगा लेकिन इससे कुछ भी नहीं बदलेगा। क्योंकि जिस तरह वह जीता था और जिस तरह वह मरा, वह कश्मीरी स्मृति में लोकप्रिय रहेगा, एक नायक के रूप में, मकबूल भट्ट के कंधे से कंधा मिलाकर और उसकी मिली-जुली आभा से हिल-मिल कर।

हम बाकी लोगों के लिए, उनकी कहानी तो बस ये है कि भारतीय लोकतंत्र पर वास्तविक हमला कश्मीर में सैनिकों के बल पर भारतीय साम्राज्य का है।

मोहम्मद अफज़ल गुरु, शांति से रहें।


प्रकाशित सामग्री से अपडेट रहने के लिए अपना ई-मेल यहां डालें