4/10/2014

लोकसभा चुनाव वाया बनारस: बुद्धिजीवियों से एक सवाल

अभिषेक श्रीवास्‍तव 



जिस देश में हवा रात भर में बदलती है, हमारे पास फिर भी एक महीना है। हम लोग, जो कि वास्‍तव में फासीवाद को लेकर चिंतित हैं, जो मोदी के उभार की गंभीरता को समझ पा रहे हैं, उन्‍हें सच के इस क्षण में खुद से सिर्फ एक सवाल पूछने की ज़रूरत है: ''क्‍या हम वास्‍तव में वही चाहते हैं जिसके बारे में हम सोचते हैं?'' 


एक बहुत पुरानी कहावत है जिसका आशय यह है कि आपको जो चाहिए, वह प्राप्‍त नहीं हो पाने से ज्‍यादा बुरी इकलौती बात यह है कि वास्‍तव में आपका इच्छित आपको प्राप्‍त हो जाए। इस देश के वामपंथी बुद्धिजीवी लंबे समय से एक वास्‍तविक बदलाव की कामना करते आए हैं। ऐसा लगता है कि वह क्षण अब बेहद करीब आ चुका है। आज से कई साल पहले 1937 में जॉर्ज ऑर्वेल ने दि रोड टु विगन पायर में इसी प्रवृत्ति को रेखांकित करते हुए एक वाक्‍य लिखा था: ''हर इंकलाबी विचार अपनी ताकत का एक अंश उस गोपनीय विश्‍वास से हासिल करता है कि कुछ भी बदला नहीं जा सकता।'' (स्‍लावोज जिज़ेक, लिविंग इन दि एंड टाइम्‍स, पेपरबैक का उपसंहार) दरअसल, इंकलाबी लोग इंकलाबी बदलाव की ज़रूरत का आह्वान एक किस्‍म के टोटके की तरह करते हैं जिसका उद्देश्‍य दरअसल उस ज़रूरत का विपरीत हासिल करना होता है- जो वास्‍तव में बदलाव को होने से रोक सके। इसके सहारे एक बात सुनिश्चित कर ली जाती है कि अपनी निजी जिंदगी, जो कि बेहद सुकून, आराम और सुरक्षा में बीत रही है उस पर कोई आंच न आने पाए। दूसरे, ऐसा सुनिश्चित करने के क्रम में हर एक सामाजिक स्थिति को विनाशकारी घोषित करते चला जाए और अपनी उच्‍चतर वैचारिक खुराक के हिसाब से कृत्रिम निर्मितियां गढ़ी जा सकें।

नरेंद्र मोदी की प्रधानमंत्री पद के लिए भाजपा की ओर से उम्‍मीदवारी को फासीवाद की आहट का पर्याय बताकर अवास्‍तविक माध्‍यमों में हल्‍ला मचाना और साथ ही सीटों का अवास्‍तविक गणित लगाते हुए सुकून की चादर ताने रहना कि भाजपा तो सत्‍ता में नहीं आ पाएगी, आ भी गई तो नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नहीं बन पाएंगे, भारत के वामपंथी बुद्धिजीवियों का समकालीन बौद्धिक शगल है। इस शगल के पीछे की वास्‍तविक तस्‍वीर को दो खबरों से समझा जा सकता है: पहली खबर बिहार से आ रही है जहां भारतीय कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के वरिष्‍ठ नेता शत्रुघ्‍न प्रसाद सिंह को बेगुसराय से लोकसभा का टिकट नहीं मिलने के विरोध में उन्‍होंने 30 मार्च को पार्टी से इस्‍तीफा दे दिया और महीने भर पहले राज्‍य की 18 में से 17 इकाइयां पार्टी के राज्‍य सचिव राजेंद्र सिंह को टिकट दिए जाने के खिलाफ़ पहले ही इस्‍तीफा दे चुकी हैं। दूसरी खबर उत्‍तर प्रदेश से है जहां भारतीय कम्‍युनिस्‍ट पार्टी से अपना राजनीतिक करियर शुरू करने वाले मलिहाबाद के नेता कौशल किशोर ने अपनी बनाई राष्‍ट्रवादी कम्‍युनिस्‍ट पार्टी से होते हुए भाजपा से टिकट ले लिया है। हिंदी के चर्चित लेखक काशीनाथ सिंह ने एक निजी मुलाकात में 24 मार्च को कहा था, ''मोदी अगर चुन के आ गया तो हम किसी को क्‍या मुंह दिखाएंगे? ये तो हमारे लिए शर्म की बात होगी। समझ नहीं आता कि दिल्‍ली के लेखक इतने निश्चिंत क्‍यों हैं। कल पंकज सिंह का फोन आया था। कह रहे थे कि निश्चिंत रहिए, भाजपा नहीं आएगी।''


बदलाव के इस ऐन क्षण में सवाल बहुत हैं। अगर सीटों के जोड़ के हिसाब से भाजपा केंद्र की सत्‍ता में नहीं आ रही है, तो फिर फासीवाद का इतना हल्‍ला क्‍यों है? अगर मोदी प्रधानमंत्री नहीं बनने जा रहे तो उनकी जगह फासीवाद कौन लाएगा? बुनियादी सवाल यह है कि क्‍या भाजपा का जीतना और मोदी का प्रधानमंत्री बनना ही फासीवाद का वाहक है या फिर फासीवाद एक प्रवृत्ति के तौर पर समाज में पहले ही आ चुका है? और अगर वास्‍तव में मोदी उर्फ फासीवाद इतना ही आसन्‍न है, तो इस समाज का फासीवाद विरोधी बौद्धिक समुदाय बदलाव के इस निर्णायक क्षण में आखिर कर क्‍या रहा है? अगर बनारस में बैठे काशीनाथ सिंह और दूसरे अमनपसंद लोग मोदी की आहट से इतने बेचैन हैं, तो दिल्‍ली के बौद्धिक गलियारों में पनप रहे आशावाद का स्रोत क्‍या है? ज़ाहिर है सेकुलरवाद के प्रति असद ज़ैदी और काशीनाथ सिंह की आस्‍थाओं में कोई फ़र्क नहीं होना चाहिए, फिर संदर्भ से काट कर बीबीसी पर प्रसारित किए गए काशीनाथ के एक साक्षात्‍कार पर ज़ैदी और दिल्‍ली के वाम बौद्धिक संप्रदाय का अचानक हुआ हमला कहीं इस तबके के करियरवाद व कृत्रिम आशावाद का डिफेंस तो नहीं है? ऐसा तो नहीं कि लंबे समय से ''भेडि़या आया, भेडि़या आया'' चिल्‍लाता रहा इस देश हिंदी का प्रगतिशील बौद्धिक समाज वास्‍तव में भेडि़ए की वास्‍तविक पदचाप को भी अपनी वैचारिक निर्मिति ही मानकर आत्‍मतुष्‍ट और निष्क्रिय बना हुआ है जबकि असहमतियों के तमाम किले पूरब से पश्चिम तक चुपचाप दरकते जा रहे हैं? 

बनारस, जहां का भूगोल और इतिहास एक-दूसरे से परस्‍पर गुम्फित रहा है, आज महज़ एक शहर नहीं रह गया है, बल्कि ऊपर पूछे गए सवालों का मुकम्‍मल जवाब बन चुका है। ये जवाब आपको सतह पर नहीं मिलेंगे। सतह पर तो जल्‍दबाज़ी में बनाई जा रही सड़कें हैं, बेढब फ्लाइओवर हैं, नकली डिवाइडर हैं और पांच हज़ार साल की संजोई अमूल्‍य गंदगी है जिसके बीच यहां जो हवा चल रही है, उसमें मोदी नाम की धूल आपकी देह के किसी भी छिद्र से भीतर प्रवेश करने को मचल रही है। ऊपर-ऊपर सिर्फ मोदी है जो वास्‍तव में हर-हर बरस रहा है। इस नारे से कांग्रेसी शंकराचार्य को दिक्‍कत हो सकती है, लेकिन बनारस की जनता को नहीं है। उसे ''हर-हर मोदी'' से रोका गया, तो उसने नवरात्र से एक दिन पहले गुरुबाग के रेणुका मंदिर से ''या मोदी सर्वभूतेषु राष्‍ट्ररूपेण संस्थिता:'' का नारा दे डाला। यह नारा लगाने वालों की एक नई फसल है जो बाबरी विध्‍वंस के दौर में पैदा हुई है, जिसने 1989 और 1991 के भयावह दंगे नहीं देखे हैं और जिसके भीतर अहमदाबाद का नागरिक बनने की महत्‍वाकांक्षा हिलोरें मार रही हैं, भले उसे पता न हो कि अहमदाबाद की दूरी बनारस से कितनी है। उसे न महादेव से मतलब है न देवी से। उसे काशी का महात्‍म्‍य नहीं पता। चुनाव आयोग कहता है ऐसी आबादी इस देश में 2.88 फीसदी है यानी करीब दस करोड़। इसकी उम्र 18 से शुरू होती है लेकिन इसका प्रभाव 50 के पार तक उन लोगों में भी जाता है जिन्‍होंने मदनपुरा में नज़ीर बनारसी के मकान को लपटों में घिरा देखा है। ज़रूरी नहीं कि यह भीड़ मोदी की वोटर हो, लेकिन इसकी कामयाबी इस बात में है कि यह अपने बीच खड़े किसी असहमत शख्‍स को भी अपनी सनक के आगोश में ले सकती है। मोदी सिर्फ एक नाम है, उसके पीछे उमड़ रही सनक दरअसल नई पूंजी के दौर में धार्मिक आस्‍था और राजनीतिक प्रतिबद्धता के इकट्ठे लोप से जन्‍मी सामाजिक फासीवादी प्रक्रिया की एक अभिव्‍यक्ति है। प्रथम दृष्‍टया निजी अनुभव से कहा जा सकता है कि इस महामारी को रोकना बहुत मुश्किल है।

घटना 22 मार्च की है। बनारस के अस्‍सी घाट से एबीपी न्‍यूज़ के चुनावी कार्यक्रम ''कौन बनेगा प्रधानमंत्री'' का सीधा प्रसारण शाम आठ बजे तय था। करीब सौ एक लाल कुर्सियां लगाई गई थीं। ऐंकर अभिसार शर्मा तैयारियों में जुटे थे। लोग धीरे-धीरे इकट्ठा हो रहे थे। साढ़े सात बजे तक कुर्सियां भर गईं और लोग बेचैन होने लगे। आपसी बातचीत में सामान्‍यत: सभी केजरीवाल को खुजलीवाल कह कर संबोधित कर रहे थे। एक-दूसरे को बता रहे थे कि अपनी बारी आने पर उन्‍हें क्‍या सवाल पूछना चाहिए। सवाल ऐसे, कि अश्‍लीलता की हदों को पार कर रहे थे और एक किस्‍म की सामूहिक हिकारत अरविंद केजरीवाल की संभावित उम्‍मीदवारी (जिसकी पक्‍की घोषणा 25 को हुई) के प्रति देखने में आ रही थी। धीरे-धीरे यह बेचैनी इतनी बढ़ी कि ''हर-हर मोदी'' के नारे लगने लगे। अभिसार शर्मा ने लोगों से कहा कि इस किस्‍म की हरकत काशी की संस्‍कृति का हिस्‍सा नहीं है और उन्‍हें उम्‍मीद है कि कार्यक्रम शुरू होने पर लोग नारेबाज़ी नहीं करेंगे। ऐंकर के इस निर्देश के जवाब में नारे और तेज़ हो गए। इसी बीच-बचाव में कार्यक्रम रोल हुआ। कांग्रेस के मनोज राय, सपा के कैलाश चौरसिया, बसपा के विजय जायसवाल और आम आदमी पार्टी के संजीव सिंह का परिचय करवाया गया। ऐंकर ने पहला सवाल बनारस के विकास को लेकर पूछा। पीछे से भीड़ का दबाव बढ़ा। लोग कुर्सियों से खड़े हो गए। जो पीछे खड़े थे वे आगे की ओर आने लगे। सवाल आम आदमी पार्टी के वक्‍ता तक पहुंचते-पहुंचते एक हल्‍ले में गुम हो गया और ऐसा लगा गोया दंगाइयों की कोई भीड़ पूरे परिदृश्‍य पर छा जाने को आतुर है। ऐंकर को घोषणा करनी पड़ी कि प्रोग्राम को जारी नहीं रखा जा सकता। वे ब्रेक पर चले गए और इसके बाद नेताओं समेत जाने कहां लुप्‍त हो गए। पूरे सेट पर भीड़ का कब्‍ज़ा था। अगले 16 मिनट तक ''मोदी मोदी'' का नारा लगता रहा। कुछ लड़के होर्डिगों के ऊपर चढ़ गए, कुछ कुर्सियों पर, कुछ लोग अपने बच्‍चों को लेकर आए थे जो हतप्रभ खड़े देख रहे थे। जो घटना दंगे की शक्‍ल ले सकती थी, धीरे-धीरे उसमें सबको मज़ा आने लगा। जिनकी इस भीड़ और भीड़ की विवेकहीनता में कोई दावेदारी नहीं थी, वे भी न जाने किस मनोवैज्ञानिक दबाव में ''मोदी मोदी'' चिल्‍लाने लगे। फिर धीरे-धीरे युवाओं के गुट बन गए जो अपनी-अपनी पोज़ीशन लेकर अलग-अलग नारे लगाने लगे। यहां किसी के भी किसी से असहमत होने की गुंजाइश नहीं थी। सब कुछ एक दिशा में जा रहा था। फ्लड लाइट बंद होने के बाद भी करीब आधे घंटे तक भीड़ जुटी रही जिसमें कौन दंगाई था ओर कौन तमाशायी, फ़र्क कर पाना मुश्किल था। यही भीड़ कुछ देर बाद अस्‍सी चौराहे पर मारवाड़ी सेवा संघ के बाहर प्रसिद्ध पप्‍पू की चाय की दुकान पर जमा हुई और सबने मिलकर आम आदमी पार्टी से सहानुभूति रखने वाले एक छात्र को इतना लताड़ा कि उसके पास वहां से जाने के अलावा कोई चारा नहीं रहा।


यही दृश्‍य दो दिन बाद ''आज तक'' की ऐंकर अंजना ओम कश्‍यप के साथ दुहराया गया। बनारस हिंदू विश्‍वविद्यालय में छात्रों और छात्राओं ने उन्‍हें राष्‍ट्रवाद का पाठ पढ़ाया, मोदी के विकास की खुराक दी और जब वे आक्रामक हुईं तो उनके ऊपर कूड़ा फेंक दिया गया। इस सनक की परिणति 25 मार्च को अरविंद केजरीवाल के ऊपर काल भैरव मंदिर में अंडा फेंकने और रोड शो के दौरान उनकी टीम पर काली स्‍याही फेंकने में हुई। स्‍याही फेंकने वालों की पहचान तो हिंदू सेना के रूप में हो गई, लेकिन अंडा फेंकने पर बनारस में यह दलील प्रचारित की गई कि बनारस का कोई आदमी ऐसी हरकत नहीं कर सकता और यह अरविंद के दिल्‍ली से लाए गए कार्यकर्ताओं का किया-धरा प्रचार स्‍टंट है। इसके अगले दिन अरविंद पर पत्‍थर उछाले गए और पांच दिन बाद हरियाणा से खबर आई कि किसी ने अरविंद को गरदन पर घूंसा जड़ दिया है। क्‍या महानगरों की आरामगाह में बैठे बुद्धिजीवियों के लिए यह चिंता की बात नहीं होनी चाहिए कि चुनावी लोकतंत्र में जिस व्‍यक्ति के इर्द-गिर्द हवा बनाई गई है, उसके खिलाफ़ एक अन्‍य व्‍यक्ति को चुनाव लड़ने से रोकने के लिए इतना कुछ किया जा रहा है?  आखिर को, बनारस एक सीट ही तो है और अरविंद केजरीवाल एक और उम्‍मीदवार? अगर नरेंद्र मोदी का निर्विरोध होना उनका जन्‍मसिद्ध अधिकार बताया जा रहा हो, तो यह वाकई चिंता की बात है। क्‍या फासीवाद से लड़ने के लिए मोदी के चुने जाने का अब भी इंतज़ार करना होगा?

यह जो कुछ दिख रहा है, वह समझने की बात है कि दरअसल दिखाया भी जा रहा है। हो सकता है कि यह सच न हो, लेकिन इसे झूठ मान लेने से हमारे सवाल हल नहीं हो जाते। कुछ सच और हैं जो सतह के नीचे खदबदा रहे हैं, लेकिन जिन्‍हें दिखाने की ज़हमत कोई नहीं उठा रहा क्‍योंकि वह ''पॉपुलर'' का अंश नहीं है। मामला ज़हमत उठाने का भी उतना नहीं है, जितना एक मिली-जुली स्‍कीम का है जिसके तहत टीवी कैमरों और मोदी के पीछे लगी कॉरपोरेट पूंजी के हित एक साथ सधते हैं। देश भर से बनारस आ रहे मीडिया के लिए बनारस का मतलब है गंगा के घाट, अस्‍सी का मोहल्‍ला (जिसका श्रेय बेशक अकेले काशीनाथ सिंह की पुस्‍तक ''काशी का अस्‍सी'' को ही जाता है और जिसे वे खुद विडम्‍बना करार देते हैं), चौक-गोदौलिया के आसपास पक्‍का महाल का इलाका और ज्‍यादा से ज्‍यादा बनारस हिंदू विश्‍वविद्यालय, जिसकी मीडिया में कमान कौशल किशोर मिश्र संभाले हुए हैं जो विश्‍व हिंदू परिषद के पुराने समर्पित कार्यकर्ता हैं। अब तक किसी चैनल को प्रोफेसर दीपक मलिक या ज्ञानेंद्रपति की याद नहीं आई है। किसी ने अफलातून से बात नहीं की है। असहमतियों को जान-बूझ कर किनारे रखा जा रहा है, और ध्‍यान देने की बात है कि ये असहमतियां सिर्फ नामी शक्‍लों के रूप में नहीं हैं, बेनाम और बेचेहरा भी हैं।

राजेश सिंह ''अभिनेता'' एक ऐसे ही शख्‍स हैं जो कभी ठेकेदारी किया करते थे। बड़े भाई का निधन हुआ, फिर पिता गुज़र गए और अभिनेता आजकल काशीवार्ता अखबार में छिटपुट काम कर के जीवन चलाते हैं। स्‍थानीय लड़के उनसे मज़ा लेते हैं। ब्रह्मनाल से लेकर मणिकर्णिका के बीच किसी गली में वे सुबह के वक्‍त पाए जा सकते हैं। एक ऐसी ही सुबह वे मणिकर्णिका की सीढि़यों से ऊपर गली में बैठे मिल गए। कुछ लड़के उन्‍हें घेरे हुए अखबार पढ़ रहे थे और चिढ़ाने की मुद्रा में नरेंद्र मोदी से जुड़ी खबरें सस्‍वर पढ़कर सुना रहे थे। उन्‍होंने जवाब दिया, ''अखबार में जो लिखता है, वो हमसे-तुमसे ज्‍यादा पढ़ा-लिखा नहीं है। अखबार के चक्‍कर में मत पड़ो।'' लड़कों ने ठहाका लगाया और मोदी का जाप करना शुरू किया। तब वे बोले, ''देखो, शेर तो दौड़ के शिकार करता है। बाज़ को जानते हो? हवा में उडते हुए ही शिकार पकड़ लेता है। बनारस के घर-घर में एक बाज़ बैठा है।'' मैंने पूछा, ''किसकी बात कर रहे हैं? कौन किसका शिकार करेगा?'' तो स्‍नेह से बोले, ''जाएदा... ज्‍यादा नहीं बोलना चाहिए। जब आदमी ही आदमी का शिकार कर रहा हो, तो हम क्‍या बोलें। समय बताएगा... अभी तो टेलर है।''

अभिनेता तो अपने नाम के अनुरूप सूत्र में बोलते हैं, लेकिन बनारस में जो जिंदगी की जंग रोज़ लड़ रहा है, वो साफ़ बोलता है। मणिकर्णिका के इसी ठीये के पीछे चाय की गुमटी लगाने वाला गुड्डू कहता है, ''मोदी अइहन त का उखडि़हन? ई कुल नेता आपस में मिलल हउवन। सब चोर हउवन। हम त वोट न देब।'' वोट नहीं देने की बात यहां कई लोग कहते मिले। मसलन, यहां के मल्‍लाहों ने एक ताजा संगठन बनाया है। कुछ दिन पहले ही निषाद समाज की एक बैठक हुई थी जिसमें यह तय हुआ कि वोट नहीं देना है। बनारस का पान कारोबारी चौरसिया समाज पारंपरिक रूप से भाजपा का वोटर रहा है लेकिन इस बार पान बेचने वाले दुकानदारों ने वाराणसी पान बीड़ा समिति नाम का एक संगठन बना लिया है जिसमें अब तक 2100 सदस्‍यों का पंजीकरण हो चुका है। यह समिति भाजपा के अलावा किसी को भी वोट कर सकती है, जिसमें अधिक संभावना सपा के प्रत्‍याशी कैलाश चौरसिया की है। बनारस को दरअसल जो चलाता है, वह यहां का पढ़ा-लिखा मध्‍यवर्ग नहीं है। बनारस की अर्थव्‍यवस्‍था को चलाने वाले हैं बुनकर, ज़रदोजी के कारीगर, मल्‍लाह, पनवाड़ी, छोटे व्‍यापारी और पटेल। इनकी ओर कैमरों की निगाह नहीं जाती, जिससे नकली सच बनी-बनाई हवा में धूल की तरह आंखों में गड़ता रहता है। यह सच एकबारगी 25 मार्च को अरविंद केजरीवाल की रैली के मंच पर जब देखने को मिला, तो उन्‍हें खारिज करने वाले कई लोगों ने अपनी मान्‍यता को बनाए रखने के लिए अपने तर्क ही उलट लिए।

आम आदमी पार्टी की बेनियाबाग मैदान में हुई रैली कई वजहों से मीडिया में ''अंडररिपोर्टेड'' या ''इल-रिपोर्टेड'' रही, जिसमें एक वजह अरविंद का खुलकर अम्‍बानी और अडानी के खिलाफ़ बोलना और उनके स्विस बैंक खातों की संख्‍या को सार्वजनिक कर देना था। यह सही है कि रैली में जौनपुर, मिर्जापुर, आज़मगढ़ आदि शहरों में भारी संख्‍या में कार्यकर्ता लाए गए थे, लेकिन दिलचस्‍प यह रहा कि शाम साढ़े छह बजे तक चली रैली में भीड़ उतनी ही रही जितनी दोपहर दो बजे थी। तकरीबन 20,000 लोगों की रैली शहर के बीचोबीच कर देना बनारस में इतना भी आसान काम नहीं था, वो भी एक बाहरी के लिए जो शहर के बारे में कुछ भी न जानता हो। मंच से प्रतीकों की बौछार हो रही थी और ये प्रतीक एक नए सच के लिए ज़मीन तैयार कर रहे थे, जिसे मुस्लिम बहुल नई सड़क क्षेत्र का हर दुकानदार एक ही वाक्‍य में समेटता नज़र आया कि, ''यह बंदा लड़ेगा।'' आज़ादी के दौर में बनी मोमिन कॉन्‍फ्रेन्‍स, ज़रदोज़ी-दस्‍तकारी समिति और वाल्‍मीकि समाज के प्रतिनिधियों का मंच पर होना एक असामान्‍य बात रही, लेकिन सबसे ज्‍यादा प्रतीकात्‍मक था बनारस के मुफ्ती का संबोधन और अपने आशीर्वाद के रूप में अरविंद को अपनी टोपी पहनाना, जिसके बदले में अरविंद ने आम आदमी पार्टी की टोपी मुफ्ती को पहनाई। इससे भी ज्‍यादा प्रतीकात्‍मक यह रहा कि संजय सिंह और अरविंद केजरीवाल दोनों ने ही अपने भाषण के दौरान हुई अज़ान के वक्‍त भाषण रोक दिया। राजनीति अगर प्रतीकों से चलती है, तो यह प्रतीक दूर तक जाने की ताकत रखता है। मंच के पीछे लगी मुख्‍य होर्डिंग पर दाहिनी तरफ़ अरविंद केजरीवाल के साथ बाईं ओर महामना मदन मोहन मालवीय की तस्‍वीर का आशय कुमार विश्‍वास ने कुछ ऐसे समझाया, ''मालवीयजी जब हैदराबाद के निज़ाम के पास बीएचयू के लिए पैसा मांगने गए थे तो उन्‍होंने उनके ऊपर जूती फेंक दी थी। हम बनारस में आपका विश्‍वास मांगने आए हैं तो हमारे ऊपर स्‍याही फेंकी गई है।''

बनारस में करीब तीन लाख मुसलमान वोटर हैं। शहर की किस्‍मत इनकी मुट्ठी में बंद है। भाजपा के बनारस में कुल एक लाख 70 हज़ार ठोस वोट हैं। आप पिछले चुनावों में भाजपा प्रत्‍याशियों को मिले वोट देखें, तो यह दो लाख से कुछ कम या ज्‍यादा ही बना रहता है। इसका मतलब ये है कि मोदी के आने से जो हवा बनी है, उससे अगर पचास हज़ार फ्लोटिंग वोट भी भाजपा में आते हैं तो करीब ढाई लाख वोट पार्टी को मिल सकेंगे। इससे निपटने के लिए ज़रूरी होगा कि मुसलमान एकजुट होकर वोट करे। अगर मुख्‍तार अंसारी मैदान में आ गए, तो यह संभव हो सकता है क्‍योंकि पिछली बार वोटिंग के दिन ही दोपहर में अजय राय और राजेश मिश्रा ने यह हवा उड़ाई थी कि मुख्‍तार जीत रहे हैं और पक्‍का महाल के घरों से लोगों को निकाल-निकाल कर मुरली मनोहर जोशी को वोट डलवाया था जिसके कारण जोशी बमुश्किल 17000 वोट से जीत पाए। अगर ऐसा नहीं किया जाता, तो जोशी हार जाते। कुछ और लोगों का मत है कि मुख्‍तार के आने से ही जोशी की जीत सुनिश्चित हुई थी और इस बार भी वोटों का ध्रुवीकरण हो जाएगा और नरेंद्र मोदी की जीत सुनिश्चित हो जाएगी। शहर में कांग्रेस पार्टी के युवा नेता मोहम्‍मद इमरान का मानना है कि मुख्‍तार के लिए अपने प्रचार का इससे बढि़या मौका नहीं होगा और वे मोदी से पक्‍का डील कर लेंगे। इधर बनारस से लेकर दिल्‍ली तक 25 मार्च की रात के बाद से चर्चा आम है कि मुख्‍तार से मोदी से कुछ करोड़ की डील कर ही ली है। अपना दल और भाजपा के बीच भी सौ करोड़ के सौदे की चर्चा है तो लखनऊ के सियासी गलियारों में पैठ रखने वाले मान रहे हैं कि राजनाथ सिंह ने पूर्वांचल में अपने उम्‍मीदवार मुलायम सिंह यादव से एक सौदेबाज़ी के तहत उतारे हैं। जितने मुंह, उतनी बातें। बनारस की सारी बहस मोदी और मोदी विरोधी संभावित मजबूत उम्‍मीदवार पर टिकी है, जिनमें ज़ाहिर है 25 मार्च के बाद एक बहस अरविंद केजरीवाल को लेकर भी शहर के मुसलमानों में शुरू हो चुकी है।

इस बहस को नज़रंदाज़ करने वालों की संख्‍या पर्याप्‍त है। जो लोग पहले कह रहे थे कि अरविंद केजरीवाल की ज़मानत जब्‍त हो जाएंगी, वे आज भी अपने दावे पर कायम हैं। बीएचयू के पुराने छात्र नेता और आजकल कांग्रेस पार्टी के कार्यक्रम गांव, गरीब, गांधी यात्रा के संयोजक विनोद सिंह एक मार्के की बात कहते हैं, ''अरविंद केजरीवाल कांग्रेस का नया भिंडरावाले हैं। जिस तरह कांग्रेस ने अकालियों को खत्‍म करने के लिए पंजाब में भिंडरावाले को प्रमोट किया था और अंतत: वह खुद कांग्रेस के लिए भस्‍मासुर साबित हुआ, उसी तरह केजरीवाल भी नरेंद्र मोदी के खिलाफ कांग्रेस के सहयोग से तो उतर गए लेकिन वह कांग्रेस का ही सफाया कर बैठेंगे। केजरीवाल मोदी के वोट नहीं काटेंगे, बल्कि भाजपा विरोधी वोट काटेंगे। इसके बावजूद उनकी बनारस में बहुत बुरी हार होनी तय है क्‍योंकि बनारस का एक-एक आदमी जानता है कि काल भैरव के दरबार में कम से कम बनारस का आदमी तो अंडा नहीं फेंक सकता। यह काम खुद केजरीवाल के वेतनभोगी कार्यकर्ताओं का किया-धरा है जिन्‍हें लेकर वे दिल्‍ली से आए थे।''

यह लेख लिखे जाने तक बनारस से कांग्रेस के प्रत्‍याशी की घोषणा नहीं हुई थी। अटकलें तमाम नामों पर थीं, लेकिन फिलहाल स्‍थानीय नामों को ही आगे माना जा रहा है। इनमें सबसे ऊपर अजय राय, फिर राजेश मिश्रा का नाम आ रहा है। बीच में एक हवा संकटमोचन के महंत विश्‍वम्‍भर मिश्र के नाम की भी उड़ी थी, जिसका जि़क्र किए जाने पर काशीनाथ सिंह ने काफी उम्‍मीद से कहा, ''अगर विश्‍वम्‍भर तैयार हो गए तो खेल पलट सकता है। अनंत नारायण तो तैयार नहीं होंगे। विश्‍वम्‍भर के नाम पर शहर के ब्राह्मण शायद भाजपा की जगह कांग्रेस के साथ आ जाएं, हालांकि विश्‍वम्‍भर के ऊपर न लड़ने का दबाव भी उतना ही होगा। अगर विश्‍वम्‍भर वाकई लड़ जाते हैं, तो यह अच्‍छी खबर होगी।'' दरअसल, हरीन पाठक, कलराज मिश्र, मुरली मनोहर जोशी से लेकर लालमुनि चौबे तक के साथ भाजपा के भीतर जो बरताव किया गया है, उसे लेकर उत्‍तर प्रदेश के ब्राह्मणों के भीतर एक रोष है। ब्राह्मणों को लग रहा है कि राजनाथ सिंह अपने राज में सिर्फ ठाकुरों को प्रमोट कर रहे हैं। इसीलिए ब्राह्मण भीतर ही भीतर किसी विकल्‍प की तलाश में हैं और आज की स्थिति में यह बहुत संभव है कि ब्राह्मणों का वोट बसपा और कांग्रेस के बीच बंट जाए। तब मोदी की जीत की राह इतनी आसान नहीं रहेगी, जितनी उनकी बनाई हवा में दिख रही है।

मोदी की जीत की राह में दो अन्‍य आशंकाएं प्रबल हैं जिन पर बनारस में चर्चा हो रही है। पहली आशंका तो यही है कि मोदी अगर बनारस से जीत भी गए तो वे अपनी सीट वड़ोदरा के लिए छोड़ देंगे। शहर में ऑटो चलाने वाले मोदी के कट्टर समर्थक लालजी पांडे कहते हैं, ''अगर मोदी बनारस क सीट छोड़लन, त समझ ला कि बनारस से भाजपा क पत्‍ता हमेशा बदे साफ हौ।'' इसी बात को रोहनिया स्थित शूलटंकेश्‍वर महादेव मंदिर के पुजारी कुछ यूं कहते हैं, ''मोदी मने विकास। जब मोदिये न रहिहें त विकास कवने बात क। तब त सोचे के पड़ी। आपन वोट खराब कइले कवन फायदा।'' एक दूसरी आशंका भाजपा और संघ को जानने-समझने वाले पढ़े-लिखे लोगों में प्रबल है। संघ चितपावन ब्राह्मणों की संस्‍था है जिसमें कभी भी कोई गैर-ब्राह्मण सत्‍ता के शीर्ष पर नहीं रहा है। कल्‍याण सिंह, विनय कटियार और उमा भारती के उदाहरण इस बात की ताकीद करते हैं कि पिछड़ा और दलित कभी भी भाजपा अथवा संघ में नेतृत्‍वकारी पद तक नहीं पहुंच सकता और पहुंच भी गया तो टिक नहीं सकता। ज्‍यादा से ज्‍यादा उसका इस्‍तेमाल किया जाता है। यह बात कुछ लोगों को भीतर से हिलाए हुए है।

चुनावी समीकरणों पर तो फिलहाल सिर्फ अटकल ही लगाई जा सकती है। सबके अपने-अपने विश्‍लेषण हैं और हर विश्‍लेषण खेमेबंदी का शिकार है। जिनका कोई राजनीतिक खेमा नहीं है, वे मोदी को बनारस से सिर्फ इसलिए जितवाना चाहते हैं क्‍योंकि वे अपने शहर से इस देश का प्रधानमंत्री चुनकर भेजना चाह रहे हैं। बनारस की सामान्‍य सवर्ण जनता यही सोचती है। दरअसल, बनारस के लोग भी मानते हैं कि यहां पर सांसद, विधायक, पार्षद आदि सब भारतीय जनता पार्टी से लंबे समय से होने के बावजूद विकास का काम नहीं हुआ है। बिजली विभाग से इसी साल लेखपाल के पद से रिटायर हुए एक कट्टर मोदी समर्थक का कहना है, ''जोशी यहां से लड़ते तो पक्‍का हार जाते। भाजपा को लोग पसंद थोड़े करते हैं। वो तो मोदी आ गए, इसलिए उनके नाम का इतना हल्‍ला है। उसके बोलने की कला, साहस, साफ़गोई, बोल्‍डनेस, कड़कपन, यही सब लोगों को भा रहा है। लोगों को अब भाजपा-वाजपा, जाति-धर्म से मतलब नहीं है। बस कैंडिडेट का मामला है। मोदी को जिताकर प्रधानमंत्री बनवाना है। यही बनारस का एजेंडा है।'' और मोदी का एजेंडा बनारस में क्‍या है? इस सवाल पर वे सतर्क हो जाते हैं, ''मोदी का क्‍या एजेंडा होगा? वो जानता है कि बनारस से लड़ेगा तो पूरे पूर्वांचल की सीटों पर लहर चलेगी। एक कैंडिडेट पूरे इलाके को अपने पक्ष में कर रहा है, इसके अलावा और क्‍या एजेंडा होगा?'' और दंगे? यहां फिर से दंगा हुआ तो? वे कहते हैं, ''ना ना... वो जमाना गया। अब लोग जाति-धर्म से काफी ऊपर उठ चुके हैं। लोगों को विकास चाहिए। विकास के लिए मोदी चाहिए।'' क्‍या आप गुजरात के विकास के बारे में कुछ जानते हैं? ''आप ही लोग तो बताते हो। मीडिया ने ही हल्‍ला किया है विकास का। मैं तो गुजरात गया नहीं। मीडिया कहता है तो सही ही होगा।''

यह एक दुश्‍चक्र है। मोदी मतलब विकास और विकास की यह कहानी मीडिया ने लोगों को बताई है। अरविंद केजरीवाल इसी कहानी का प्रत्‍याख्‍यान गढ़ रहे हैं। तमाम एनजीओ गुजरात के विकास का सच अपने-अपने तरीके से लोगों को समझाने में जुटे हैं। एक पुस्तिका भी कुछ संगठनों द्वारा बाज़ार में उतारी गई है। दिलचस्‍प यह है कि जिस फासीवाद का नाम लेकर मोदी को एक्‍सपोज़ करने का अभियान चलाया जा रहा है, वह लोगों को समझ नहीं आता। इससे ज्‍यादा दिलचस्‍प यह है कि वैकल्पिक मीडिया और मुख्‍यधारा के मीडिया में मौजूद असहमति के अधिकतर स्‍वर अंग्रेज़ी के हैं, जिनका बनारस या कहें समूचे उत्‍तर भारत के ज़मीनी मानस से कोई लेना-देना नहीं है। काशीनाथ सिंह कहते हैं, ''हमने आज तक जनता से कम्‍युनिकेट ही नहीं किया। दुर्भाग्‍य से कम्‍युनिस्‍ट पार्टियां अपनी करनी से खत्‍म होती गईं। अब भुगतना तो पड़ेगा।''

मीडिया, विकास और मोदी के इस त्रिकोण से बाहर कुछ वास्‍तविक प्रयास भी किए जा रहे हैं, हालांकि उनका वज़न भी उतना ही हवाई है जितना नरेंद्र मोदी का प्रधानमंत्री बनना। एक कोशिश की गई थी कि मोदी के खिलाफ गांधीवादी संदीप पाण्‍डे को बनारस से उतारा जाए। समाजवादी जन परिषद के नेता अफलातून की यह कोशिश तो रंग नहीं ला सकी, लेकिन उन्‍होंने इतना कर दिया है कि साझा संस्‍कृति मंच के बैनर तले बीते 26 मार्च को बनारस के जिलाधिकारी को एक ज्ञापन सौंपा है जिसमें मीडिया द्वारा बनारस की भ्रामक रिपोर्टिंग को रोकने की गुहार लगाई गई है। साझा संस्‍कृति मंच वही संगठन है जिसने बाबरी विध्‍वंस के बाद और दीपा मेहता की फिल्‍म का सेट तोड़े जाने के बाद शहर में सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल कायम की थी। एक बार फिर वह सक्रिय हो रहा है। काशीनाथ सिंह बताते हैं कि एक परचा तैयार किया जा रहा है नरेंद्र मोदी के खिलाफ, और वे प्रलेस, जलेस व जसम जैसे संगठनों के संपर्क में भी हैं। कोशिश यह भी की जा रही है कि 12 मई के मतदान से कम से कम बीस दिन पहले रंगमंच, संस्‍कृति और फिल्‍म के क्षेत्र से कुछ सेकुलर सेलिब्रिटी चेहरों को बनारस में लाकर कुछ दिन ठहराया जाए। काशी कहते हैं कि इस बार जबकि बनारस को सबसे ज्‍यादा बिस्मिल्‍ला खान और नज़ीर बनारसी की ज़रूरत थी, दोनों की कमी बहुत अखरेगी।

बनारस में फिलहाल जो स्थिति है, जैसा हमने ऊपर देखा, उससे कुछ ठोस जवाब तो मिल ही सकते हैं। पहली बुनियादी बात तो यह है कि फासीवाद के पर्याय के तौर पर नरेंद्र मोदी नाम के व्‍यक्ति से खतरा उतना वास्‍तविक नहीं है जितना कि उनके नाम पर फैलाई जा रही फासीवादी प्रवृत्तियों से है। हाल में मोदी पर हमले के नाम पर हुई कुछ कथित आतंकियों की गिरफ्तारी छोटा सा उदाहरण भर है। नरेंद्र मोदी का केंद्र में आना या न आना- दोनों ही स्थितियों में अगले एक माह के भीतर देश का सामाजिक ताना-बाना उस तेजी से बिखरेगा जितना यह पिछले दस साल में नहीं हुआ। अगर मोदी प्रधानमंत्री बन गए, तो उन्‍हें फासीवाद की पकी-पकाई फसल काटने को मिल जाएगी और हमारे पास सोचने का वक्‍त शायद नहीं बचेगा। अगर वे नहीं भी आए, तो इस दौरान समाज का हुआ तीव्र फासिस्‍टीकरण किसी दूसरी सत्‍ता को निरंकुश होने में उतनी ही ज्‍यादा आसानी पैदा करेगा। दोनों ही स्थितियां नवउदारवादी प्रोजेक्‍ट और वित्‍तीय पूंजी के हित में होंगी, चाहे वे सेकुलरवाद के नाम पर कांग्रेस द्वारा पैदा की जाएं या मोदी के नाम पर भाजपा के द्वारा। इस लिहाज़ से मोदी एक ऐसा दुतरफा औज़ार हैं जिसे लोकसभा चुनाव 2014 नाम की सान पर बस धार दी जा रही है। यह औज़ार दोनों तरफ से काटेगा, इसलिए सीटें गिनवा कर और चुनावी गणित लगाकर अपनी-अपनी आश्‍वस्तियों के स्‍वर्ग में बने रहने का फिलहाल कोई अर्थ नहीं है।


अर्थ के लिए एक बार फिर जिज़ेक की पुस्‍तक ''लिविंग इन दि एंड टाइम्‍स'' के उपसंहार से हम वाक्‍य उधार लेंगे: ''हमारे संघर्ष को उन पहलुओं पर केंद्रित होना चाहिए जो ट्रांसनेशनल सार्वजनिक वृत्‍त (पब्लिक स्‍फीयर) को खतरा पैदा कर रहे हैं।'' जिज़ेक कहते हैं कि यह खतरा एक स्‍तर पर संगठित साइबरस्‍पेस के भीतर ''आम बौद्धिकता'' के निजीकरण के रूप में भी अभिव्‍यक्‍त हो रहा है (फेसबुक, ट्विटर, क्‍लाउड कंप्‍यूटिंग, इत्‍यादि)। वे कहते हैं कि हमें हर उस बिंदु पर कम्‍युनिस्‍ट संघर्ष को संगठित करना होगा जहां सामाजिक तनाव इसलिए हल नहीं हो पा रहा है क्‍योंकि वह तनाव दरअसल ''नकली'' है, जिसका नियामक विचारधारात्‍मक धुंध में तय किया जा रहा है। एक आंदोलन के तौर पर कम्‍युनिज्‍़म को ऐसे हर गतिरोध में दखल देना चाहिए जिसका सबसे पहला कार्यभार यह हो कि वह समस्‍या को नए सिरे से परिभाषित करे तथा सार्वजनिक विचारधारात्‍मक स्‍पेस में समस्‍या को जिस तरीके से प्रस्‍तुत किया जा रहा है और जिस तरीके से समझा जा रहा है, सीधे उसे खारिज करे।  

पहला मतदान 7 अप्रैल को है और आखिरी 12 मई को। जिस देश में हवा रात भर में बदलती है, हमारे पास फिर भी एक महीना है। हम लोग, जो कि वास्‍तव में फासीवाद को लेकर चिंतित हैं, जो मोदी के उभार की गंभीरता को समझ पा रहे हैं, उन्‍हें सच के इस क्षण में खुद से सिर्फ एक सवाल पूछने की ज़रूरत है: ''क्‍या हम वास्‍तव में वही चाहते हैं जिसके बारे में हम सोचते हैं?'' 


(समकालीन तीसरी दुनिया के अप्रैल अंक से साभार) 

4/08/2014

चुनावी बिसात पर सजी मोहरें और हिंदू राष्ट्र का सपना


आनन्‍दस्‍वरूप वर्मा 
16वीं लोकसभा के लिए चुनाव की सरगर्मी अपने चरम पर है और 7 अप्रैल से मतदान की शुरुआत भी हो चुकी है। इस बार का चुनाव इस दृष्टि से अनोखा और अभूतपूर्व है कि समूची फिजा़ं में एक ही व्यक्ति की चर्चा है और वह है नरेंद्र मोदी। भाजपा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी जिन्हें बड़े जोर-शोर से प्रधानमंत्री पद के लिए आगे किया गया है। इनके मुकाबले में हैं कांग्रेस के राहुल गांधी और एक हद तक ‘आम आदमी पार्टी’ के अरविंद केजरीवाल। केजरीवाल ने अभी कुछ ही दिनों पहले अपनी पार्टी बनायी है और देखते-देखते उनकी हैसियत इस योग्य हो गयी कि वह राष्ट्रीय राजनीति में जबर्दस्त ढंग से हस्तक्षेप कर सकें। कांग्रेस और भाजपा के बीच भारतीय राजनीति ने जो दो ध्रुवीय आकार ग्रहण किया था उसे तोड़ने में ‘आप’ ने एक भूमिका निभायी है और दोनों पार्टियों के नाकारापन से ऊबी जनता के सामने नए विकल्प का भ्रम खड़ा किया है। केजरीवाल पूरी तरह राजनीति में हैं लेकिन एक अराजनीतिक नजरिए के साथ। उनका कहना है कि वह न तो दक्षिणपंथी हैं, न वामपंथी और न मध्यमार्गी। वह क्या हैं इसे उन्होंने ज्यादा परिभाषित न करते हुए लगभग अपनी हर सभाओं, बैठकों और संवाददाता सम्मेलनों में बस यही कहा है कि वह प्रधानमंत्राी बनने के लिए नहीं बल्कि देश बचाने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं। जिस तरह से सुब्रत राय शैली में चीख-चीख कर वह अपने देशभक्त होने और बाकी सभी को देशद्रोही बताने में लगे हैं उससे उनकी भी नीयत पर संदेह होता है। वैसे, आम जनता की नजर में अपनी कार्पोरेट विरोधी छवि बनाने वाले केजरीवाल ने उद्योगपतियों की एक बैठक में कह ही दिया कि वह पूंजीवाद विरोधी नहीं हैं और न पूंजीपतियों से उनका कोई विरोध है। उनका विरोध तो बस ‘क्रोनी कैपीटलिज्म’ से है। बहरहाल, इस टिप्पणी का मकसद मौजूदा चुनाव को लेकर लोगों के मन में पैदा विभिन्न आशंकाओं पर विचार करना है। 

समूचे देश में इस बार गजब का ध्रुवीकरण हुआ है। अधिकांश मतदाता या तो मोदी के खिलाफ हैं या मोदी के पक्ष में। चुनाव के केंद्र में मोदी हैं और सभी तरह के मीडिया में वह छाए हुए हैं। जिस समय इंडिया शाइनिंग का नारा भाजपा ने दिया था या जब ‘अबकी बारी-अटल बिहारी’ का नारा गूंज रहा था उस समय भी प्रचार तंत्र पर इतने पैसे नहीं खर्च हुए थे जितने इस बार हो रहे हैं। जो लोग मोदी को पसंद करते हैं वे भाजपा के छः वर्ष के शासनकाल का हवाला देते हुए कहते हैं कि क्या उस समय आसमान टूट पड़ा था? पूरे देश में क्या सांप्रदायिक नरसंहार हो रहे थे? क्या नागरिक अधिकारों को समाप्त कर दिया गया था? नाजी जर्मनी की तरह क्या पुस्तकालयों को जला दिया गया था और बुद्धिजीवियों को देश निकाला दे दिया गया था? ऐसा कुछ भी तो नहीं हुआ था। फिर आज इतनी चिंता क्यों हो रही है? तमाम राजनीतिक दलों की तरह भाजपा भी एक राजनीतिक दल है और अगर वह चुनाव के जरिए सत्ता में आ जाती है तो क्या फर्क पड़ने जा रहा है? किसी के भी मन में इस तरह के सवाल उठने स्वाभाविक हैं। हालांकि जो लोग यह कह रहे हैं वे भूल जा रहे हैं कि उसी काल में किस तरह कुछ राज्यों की पाठ्यपुस्तकों में हास्यास्पद पाठ रखे गये और ईसाइयों को प्रताड़ित किया गया। अटल बिहारी वाजपेयी ने भले ही ‘राजधर्म’ की बात कह कर अपने को थोड़ा अलग दिखा लिया हो पर केंद्र में अगर उनकी सरकार नहीं रही होती तो क्या नरेंद्र मोदी इतने आत्मविश्वास से गुजरात में मुसलमानों का कत्लेआम कर सकते थे? तो भी, अगर सचमुच कोई राजनीतिक दल चुनाव के जरिए जनता का विश्वास प्राप्त करता है (भले ही चुनाव कितने भी धांधलीपूर्ण क्यों न हों) तो उस विश्वास का सम्मान करना चाहिए। 

लेकिन यह बात राजनीतिक दलों पर लागू होती है। मोदी के आने से चिंता इस बात की है कि वह किसी राजनीतिक दल के प्रतिनिधि के रूप में नहीं बल्कि राजनीतिक दल का लबादा ओढ़कर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ जैसे फासीवादी संगठन के प्रतिनिधि के रूप में चुनाव मैदान में है। 1947 के बाद से यह पहला मौका है जब आर.एस.एस. पूरी ताकत के साथ अपने उस लक्ष्य तक पहुंचने के एजेंडा को लागू करने में लग गया है जिसके लिए 1925 में उसका गठन हुआ था। खुद को सांस्कृतिक संगठन के रूप में चित्रित करने वाले आर.एस.एस. ने किस तरह इस चुनाव में अपनी ही राजनीतिक भुजा भाजपा को हाशिए पर डाल दिया है इसे समझने के लिए असाधारण विद्वान होने की जरूरत नहीं है। लाल कृष्ण आडवाणी को अगर अपवाद मान लें तो जिन नेताओं को उसने किनारे किया है वे सभी भाजपा के उस हिस्से से आते हैं जिनकी जड़ें आर.एस.एस. में नहीं हैं। इस बार एक प्रचारक को प्रधानमंत्री बनाना है और आहिस्ता-आहिस्ता हिन्दू राष्ट्र का एजेंडा पूरा करना है। इसीलिए मोदी को रोकना जरूरी हो जाता है। इसीलिए उन सभी ताकतों को किसी न किसी रूप में समर्थन देना जरूरी हो जाता है जो सचमुच मोदी को प्रधानमंत्री बनने से रोक सकें। 

इस चुनाव में बड़ी चालाकी से राम मंदिर के मुद्दे को भाजपा ने ठंडे बस्ते में डाल दिया है। अपनी किसी चुनावी सभा में नरेंद्र मोदी ने यह नहीं कहा कि वह राम मंदिर बनाएंगे। अगर वह ऐसा कहते तो एक बार फिर उन पार्टियों को इस बात का मौका मिलता जिनका विरोध बहुत सतही ढंग की धर्मनिरपेक्षता की वजह है और जो यह समझते हैं कि राम मंदिर बनाने या न बनाने से ही इस पार्टी का चरित्र तय होने जा रहा है। वे यह भूल जा रही हैं कि आर.एस.एस की विचारधारा की बुनियाद ही फासीवाद पर टिकी हुई है जिसका निरूपण काफी पहले उनके गुरुजी एम.एस. गोलवलकर ने अपनी पुस्तक ‘वी ऑर ऑवर नेशनहुड डिफाइन्ड’ पुस्तक में किया था। उन्होंने साफ शब्दों में कहा था कि ‘भारत में सभी गैर हिन्दू लोगों को हिन्दू संस्कृति और भाषा अपनानी होगी और हिन्दू धर्म का आदर करना होगा और हिन्दू जाति और संस्कृति के गौरवगान के अलावा कोई और विचार अपने मन में नहीं लाना होगा।’ इस पुस्तक के पांचवें अध्याय में इसी क्रम में वह आगे लिखते हैं कि ‘वे (मुसलमान) विदेशी होकर रहना छोड़ें नहीं तो विशेष सलूक की तो बात ही अलग, उन्हें कोई लाभ नहीं मिलेगा, उनके कोई विशेष अधिकार नहीं होंगे-यहां तक कि नागरिक अधिकार भी नहीं।’ भाजपा के नेताओं से जब इस पुस्तक की चर्चा की जाती है तो वह जवाब में कहते हैं कि वह दौर अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई का था और उस परिस्थिति में लिखी गयी पुस्तक का जिक्र अभी बेमानी है। लेकिन 1996 में तो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने आधिकारिक तौर पर इस पुस्तक से पल्ला झाड़ते हुए कहा कि यह पुस्तक न तो ‘परिपक्व’ गुरुजी के विचारों का और न आरएसएस के विचारों का प्रतिनिधित्व करती है। यह और बात है कि इस पुस्तक के प्रकाशन के एक वर्ष बाद ही 1940 में गोलवलकर आरएसएस के सरसंघचालक बने। काफी पहले सितंबर 1979 में समाजवादी नेता मध्ुलिमये ने अपने एक साक्षात्कार में गोलवलकर की अन्य पुस्तक ‘बंच ऑफ थाट्स’ के हवाले से बताया था कि गोलवलकर ने देश के लिए तीन आंतरिक खतरे बताए हैं- मुसलमान, ईसाई और कम्युनिस्ट। 

गोलवलकर की पुस्तक ‘वी ऑर ऑवर नेशनहुड डिफाइन्ड’ 1939 में लिखी गयी थी लेकिन आज नरेन्द्र मोदी के मित्र और भाजपा के एक प्रमुख नेता सुब्रमण्यम स्वामी गोलवलकर के उन्हीं विचारों को जब अपनी भाषा में सामने लाते हैं तो इसका क्या अर्थ लगाया जाय। 16 जुलाई 2011 को मुंबई से प्रकाशित समाचार पत्र डीएनए में ‘हाउ टु वाइप आउट इस्लामिक टेरर’ शीर्षक अपने लेख में उन्हांेने ‘इस्लामी आतंकवाद’ से निपटने के लिए ढेर सारे सुझाव दिए हैं और कहा है कि अगर कोई सरकार इन सुझावों पर अमल करे तो भारत को पूरी तरह हिन्दू राष्ट्र बनाया जा सकता है। अपने लेख में उन्होंने लिखा है कि ‘इंडिया यानी भारत यानी हिन्दुस्तान हिन्दुओं का और उनलोगों का राष्ट्र है जिनके पूर्वज हिन्दू थे। इसके अलावा जो लोग इसे मानने से इनकार करते हैं अथवा वे विदेशी जो पंजीकरण के जरिए भारतीय नागरिक की हैसियत रखते हैं वे भारत में रह तो सकते हैं लेकिन उनके पास वोट देने का अधिकार नहीं होना चाहिए।’ गौर करने की बात है कि गोलवलकर और सुब्रमण्यम स्वामी दोनों इस पक्ष में हैं कि जो अपने को हिन्दू नहीं मानते हैं उनके पास किसी तरह का नागरिक अधिकार नहीं होना चाहिए। अपने इसी लेख में सुब्रमण्यम स्वामी ने सुझाव दिया कि काशी विश्वनाथ मंदिर से लगी मस्जिद को हटा दिया जाय और देश के अन्य हिस्सों में मंदिरों के पास स्थित अन्य 300 मस्जिदों को भी समाप्त कर दिया जाय। उन्होंने यूनिफार्म सिविल कोड लागू करने की मांग करते हुए कहा है कि संस्कृत की शिक्षा को और वंदे मातरम को सबके लिए अनिवार्य कर दिया जाय। भारत आने वाले बांग्लादेशी नागरिकों की समस्या के समाधान के लिए उनका एक अजीबो-गरीब सुझाव है। उनका कहना है कि ‘सिलहट से लेकर खुल्ना तक के बांग्लादेश के इलाके को भारत में मिला लिया जाय’।

आप कह सकते हैं कि सुब्रमण्यम स्वामी को आर.एस.एस या नरेंद्र मोदी से न जोड़ा जाय। लेकिन जनता पार्टी के अध्यक्ष के रूप में एक अत्यंत सांप्रदायिक लेख लिखने और ‘हेडलाइंस टुडे’ चैनल के पत्रकार राहुल कंवल को बेहद आपत्तिजनक इंटरव्यू देने के बाद ही उन्हें दुबारा भाजपा में शामिल कर लिया गया और जैसा कि वह खुद बताते हैं, उनके सुझाव पर ही पार्टी ने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में प्रोजेक्ट किया। राहुल कंवल को उन्होंने जो इंटरव्यू दिया था उसमें उन्होंने कहा कि ‘भारत में 80 प्रतिशत हिन्दू रहते हैं। अगर हम हिन्दू वोटों को एकजुट कर लें और मुसलमानों की आबादी में से 7 प्रतिशत को अपनी ओर मिला लें तो सत्ता पर कब्जा कर सकते हैं। मुसलमानों में काफी फूट है। इनमें से शिया, बरेलवी और अहमदी पहले से ही भाजपा के करीब हैं। यह नहीं कहा जा सकता कि मुसलमानों का समग्र रूप से कोई एक वोट बैंक है। आप खुद देखिए कि पाकिस्तान में किस तरह बर्बरता के साथ शिया लोगों का सफाया किया गया। हमारी रणनीति बहुत साफ होनी चाहिए। हिन्दुओं को एक झंडे के नीचे एकजुट करो और मुसलमानों में फूट डालो।’ यह इंटरव्यू 21 जुलाई 2013 का है। इसी इंटरव्यू में उन्होंने आगे कहा है कि ‘अगर मोदी प्रधानमंत्री बनते हैं तो निश्चित तौर पर अयोध्या में राममंदिर का निर्माण होगा। इस मुद्दे पर पीछे जाने का प्रश्न ही नहीं उठता। हम कानूनी रास्ता अख्तियार करेंगे और मुसलमानों को भी मनाएंगे। मंदिर का मुद्दा हमेशा भाजपा के एजेंडे पर रहा है।’ 

डीएनए में प्रकाशित लेख के बाद हॉर्वर्ड विश्वविद्यालय के छात्रों और अध्यापकों के अंदर तीखी प्रतिक्रिया हुई क्योंकि सुब्रमण्यम स्वामी ने अपनी डॉक्टरेट की उपाधि हॉर्वर्ड से ली है और वहां वह अभी भी एक पाठ्यक्रम पढ़ाने जाते हैं। हॉर्वर्ड अकादमिक समुदाय ने स्वामी के लेख को अत्यंत आक्रामक और खतरनाक बताते हुए इस बात पर शर्मिंदगी जाहिर की कि उनके विश्वविद्यालय से जुड़ा कोई व्यक्ति ऐसे विचार व्यक्त कर सकता है। विश्वविद्यालय ने फौरी तौर पर यह भी फैसला किया कि इकोनॉमिक्स पर जिस समर कोर्स को पढ़ाने के लिए स्वामी वहां जाते हैं उस कोर्स को हटा दिया जाय। बाद में एक लंबी बहस के बाद अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर स्वामी के उस लेख वाले अध्याय पर पर्दा डाल दिया गया लेकिन इस विरोध को देखते हुए डीएनए अखबार ने अपनी वेबसाइट पर से स्वामी के लेख को हटा दिया। 

किसी राजनीतिक दल के रूप में भाजपा के आने अथवा भाजपा के किसी प्रत्याशी के प्रधानमंत्राी बनने से भला किसी को क्या आपत्ति हो सकती है! लेकिन यहां मामला कुछ और है। 

अभी जो लोग नरेन्द्र मोदी को लेकर चिंतित हैं उनकी चिंता पूरी तरह वाजिब है।

(‘समकालीन तीसरी दुनिया', अप्रैल 2014 का संपादकीय)

4/06/2014

Statement on Loksabha Elections by eminent writers


As India heads towards another general election soon we, the undersigned, would like to warn the people of India about the rising danger of bigotry, communal divide, organised violence on and hatred for sections of people in the country.

At a time when conflicts are on the increase worldwide and both the global and national economy are in deep crisis due to falling incomes, rising inflation and unemployment there is a search for a ‘messiah’, a superman who will save us all and restore lost glory or take us towards new ones very soon.

We have been subjected to a media blitz in recent times to convince us that Narendra Modi is the man we need now. This corporate media campaign has already overawed the Bhartiya Janta Party to surrender before the ‘Strongman of Gujarat’.  He is being portrayed as a man who has the solution for all the complex economic, social and cultural challenges the country faces today. Modi’s infamous role in the massacre of over 3000 Muslims in his state in 2002 is being brushed aside and he is promoted as morally ‘fit enough’ to lead the nation. False statistical claims, full of half-truths, are being used to present Gujarat as a model that all of India should follow to attain high economic growth. The voices of reason critical of Modi within his own party are being ignored and even attacked to silence them. Narendra Modi is being portrayed as the ‘tough man’ who is capable of taking hard decisions.

The history of the last century tells us that in similar situations, people of different nations have, in their desperation to find a way out, often opted for such ‘tough men’. The results have been disastrous for them. A yearning for ‘hard decisions’ makes us surrender our collective wisdom as well as conscience to such men, who then proceed to rob us of our humanity. This desire for toughness and a hard state has led to the rise of fascist regimes and genocides in the past. The people of Italy, Germany and other countries of Europe have paid a very high price for their folly and the world is yet to fully recover from their misadventures. Generations have suffered an abiding sense of   guilt for a decision taken by their predecessors. 

Added to it is the fact that The Rashtriya Swyamsevak Sangh (RSS) is now actively promoting Narendra Modi as the next prime minister. RSS is an organization, which has been propagating the idea of India as a Hindu Rashtra, a super identity under which all other identities, religious or cultural, are subsumed. India’s strength lies in the confidence that identities of various shapes, sizes and colours have enjoyed over the millennia, a history that forms the very basis of the modern idea of India.

It is precisely this willingness to accept and celebrate diversity that has prevented India from going the way some of her neighbor countries have gone.  Any attempt to homogenize India by the brute force of numbers will lead to permanent discord, perpetual violence and the ultimate disintegration of the entity we now recognize as India. The idea of India inevitably includes plurality, mutual respect, accommodation and vital diversity and that idea faces a real threat today.

We do need governments, which can take firm decisions to safeguard and ensure the material wellbeing of the people, especially, the most vulnerable sections among them. And yet we also need to take care that we do not fall into the trap of simplistic claims of there being instant solutions to any national problem. We do need to reiterate the values that constitute the very idea of India, an idea, which promises the smallest of identities a space and a rightful stake in the nation. A person like Narendra Modi, who is a permanent source of anxiety and insecurity for very large sections of our society, cannot and should not be allowed to lead India.

This upcoming Lok Sabha election will again be a test for people of India: are we strong enough to reject the idea of a hard state and a hard leader? Are we sensitive enough not to support an ideology that renders invisible large sections of the population or people?  Can we prevent the politics of hatred and contempt for democracy from triumphing over the great Indian tradition of tolerance and brotherhood?


U R Ananthamurthy             
Namwar Singh               
Ashok Vajpeyi                       
Apoorvanand
Anoop Sethi
Amarjeet Singh Chandan
Kumar Ambuj
Chandrakant Patil
Chandrakant Deotale
Vishnu Khare 
Prafull Shiledar
Satish Kalsekar
Laltu
Yogendra Ahuja
Abhishek Srivastava

4/05/2014

मोदी को जिताना हमारे लिए शर्म की बात होगी: काशीनाथ सिंह

लोकसभा चुनाव में बनारस से नरेंद्र मोदी की उम्‍मीदवारी पर बीबीसी को दिए अपने साक्षात्‍कार के कारण अचानक चर्चा में आए हिंदी के वरिष्‍ठ लेखक काशीनाथ सिंह शहर के उन विरल लोगों में हैं, जिनके यहां पत्रकारों का मजमा लगा है। दिल्‍ली से बनारस पहुंचने वाला हर पत्रकार काशीनाथ सिं‍ह का साक्षात्‍कार लेना चाहता है, लिहाजा सबको वे क्रम से समय दे रहे हैं। प्रस्‍तुत है अरविंद केजरीवाल की रैली से ठीक एक दिन पहले 24 मार्च को काशीनाथ सिंह से उनके घर पर हुई अभिषेक श्रीवास्‍तव की बातचीत के प्रमुख अंश।




बीबीसी वाले इंटरव्‍यू का क्‍या मामला था... अचानक आपकी चौतरफा आलोचना होने लगी?
(हंसते हुए) उन्‍होंने जो दिखाया वह पूरी बात नहीं थी। बात को काटकर उन्‍होंने प्रसारित किया जिससे भ्रम पैदा हुआ। मैं आज से नहीं बल्कि पिछले पांच दशक से लगातार फासीवादी ताकतों के खिलाफ बोलता-लिखता रहा हूं। मेरा पूरा लेखन सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ रहा है। आप समझिए कि अगर काशी के लोगों ने इस बार मोदी को चुन लिया तो हम मुंह दिखाने के लायक नहीं रह जाएंगे। यह हमारे लिए शर्म की बात होगी।

वैसे चुनाव का माहौल क्‍या है? आपका अपना आकलन क्‍या है?
देखिए, ये आज की बात नहीं है। साठ के दशक में काशी हिंदू विश्‍वविद्यालय में चला आंदोलन हो या फिर बाबरी विध्‍वंस के बाद की स्थिति, बनारस के लोग हमेशा से यहां की गंगा-जमुनी संस्‍कृति की हिफ़ाज़त के लिए खड़े रहे हैं। हम लोग जब साझा संस्‍कृति मंच की ओर से मोर्चा निकालते थे, तो नज़ीर बनारसी साहब मदनपुरा में हमारा स्‍वागत करने के लिए खड़े होते थे और यहां के मुसलमानों को अकेले समझाने में जुटे रहते थे। बाद में खुद नज़ीर साहब के मकान पर हमला किया गया, फिर भी वे मरते दम तक फासीवाद के खिलाफ़ खड़े रहे। आपको याद होगा कि दीपा मेहता आई थीं यहां पर शूटिंग करने, उनके साथ कैसा सुलूक किया गया। उस वक्‍त भी हम लोगों ने मीटिंग की थी और परचा निकाला था।

इस बार की क्‍या योजना है? कोई बातचीत हुई है लेखकों से आपकी?
लगातार फोन आ रहे हैं। दुर्भाग्‍य है कि कम्‍युनिस्‍ट पार्टियों ने अपनी करनी से अपनी स्थिति खराब कर ली, वरना माहौल कुछ और होता। हम लोग इस बार भी लेखकों, रंगकर्मियों, संस्‍कृतिकर्मियों, फिल्‍मकारों से लगातार संवाद में हैं। एक परचा ड्राफ्ट किया जा रहा है। जल्‍द ही सामने आएगा। कोशिश है कि कुछ नामी-गिरामी चेहरों को कुछ दिन बनारस में टिकाया जाए। समस्‍या यह है कि बनारस से बाहर के लेखक नरेंद्र मोदी के खतरे की गंभीरता को नहीं समझ पा रहे हैं। कल ही पंकज सिंह से बात हुई। उनका फोन आया था। कह रहे थे कि चिंता मत कीजिए, भाजपा सरकार नहीं बनेगी। मुझे लगता है कि यह नि‍श्चिंतता कहीं घातक न साबित हो।

आप एक ऐसे लेखक हैं जो लगातार अपनी ज़मीन पर बना रहा और जिसने स्‍थानीय पात्रों को लेकर रचनाएं लिखीं। बनारस के स्‍वभाव को देखते हुए क्‍या आपको लगता है कि यहां का मतदाता मोदी के उसी शिद्दत से फासीवाद से जोड़कर देख पा रहा है?
देखिए, बनारस यथास्थितिवादी शहर है। पुरानी कहावत है- कोउ नृप होय हमें का हानि। यहां के लोग इसी भाव में जीते हैं। इस बार हालांकि यह यथास्थितिवाद फासीवाद के पक्ष में जा रहा है। लोगों के बीच कोई काम नहीं हो रहा। आखिर उन तक अपनी बात कोई कैसे पहुंचाए। जिस अस्सी मोहल्‍ले पर मैंने किताब लिखी, अब वहां जाने लायक नहीं बचा है। मुझे दसियों साल हो गए वहां गए हुए। सब भाजपाई वहां इकट्ठा रहते हैं। लोगों के बुलाने पर जाता भी हूं तो पोई के यहां बैठता हूं। दरअसल, लोगों को लग रहा है कि बनारस से इस बार देश को प्रधानमंत्री मिलना चाहिए। यह एक बड़ा फैक्‍टर है। लोगों को लग रहा है कि लंबे समय बाद बनारस इतने लाइमलाइट में आया है, बड़े नेता यहां से खड़े हो रहे हैं। लोगों को लगता है कि मोदी को जितवाना उनकी प्रतिष्‍ठा का प्रश्‍न है।

लेकिन जो बात टीवी चैनलों के माध्‍यम से आ रही है, जिस हवा की बात की जा रही है, वह तो अस्‍सी और पक्‍का महाल के इर्द-गिर्द ही है। बाकी बनारस का क्‍या?
ये बड़ी विडम्‍बना है। असल में ''काशी का अस्‍सी'' इतनी चर्चित है कि यहां जो कोई नया अधिकारी आता है, उसे ही पढ़कर बनारस को समझता है। अभी कल ही दिल्‍ली से एक पत्रकार आई थीं और किताब का जि़क्र कर रही थीं। जिस अस्‍सी के बारे में मैंने लिखा है किताब में, वह बहुत पुरानी बात हो चुकी। वह अस्‍सी अब वैसा नहीं रहा। और बनारस सिर्फ अस्‍सी नहीं है। विडम्‍बना है कि इस किताब को पढ़कर लोग सोचते हैं कि अस्‍सी से ही बनारस का मूड जान लेंगे। अब इसका क्‍या किया जाए।    

मोदी अगर जीत गए तो क्‍या माहौल खराब होने की आशंका है?
बेशक, लेकिन एक आशंका लोगों के मन में यह भी है कि मोदी इस सीट को रखेंगे या वड़ोदरा चले जाएंगे। जहां तक मेरा मानना है, बनारस का य‍थास्थितिवाद फासीवाद की ज़मीन तो तैयार करेगा लेकिन यही प्रवृत्ति इस शहर को फासीवाद से अछूता बनाए रखेगी। लेकिन सवाल सिर्फ बनारस का नहीं, देश का है। अगर मोदी के खिलाफ़ कोई संयुक्‍त उम्‍मीदवार सारी पार्टियां मिलकर उतार देतीं, तो शायद उनकी लड़ाई मुश्किल हो जाती। अरविंद केजरीवाल को ही समर्थन दिया जा सकता था। पता नहीं कांग्रेस की क्‍या स्थिति है, आप लोग बेहतर जानते होंगे।

कांग्रेस से तो दिग्विजय सिंह का नाम चल रहा है। संकटमोचन के महंत विश्‍वम्‍भरजी और काशी नरेश के लड़के अनंतजी की भी चर्चा है...।
दिग्विजय सिंह का तो पता नहीं, लेकिन अगर विश्‍वम्‍भर तैयार हो गए तो खेल पलट सकता है। अनंत नारायण तो तैयार नहीं होंगे। विश्‍वम्‍भर के नाम पर शहर के ब्राह्मण शायद भाजपा की जगह कांग्रेस के साथ आ जाएं, हालांकि विश्‍वम्‍भर के ऊपर न लड़ने का दबाव भी उतना ही होगा। अगर विश्‍वम्‍भर वाकई लड़ जाते हैं, तो यह अच्‍छी खबर होगी।

हां, इधर बीच ब्राह्मणों में कुछ नाराज़गी भी तो है भाजपा को लेकर... ?
ये बात काम कर सकती है। हो सकता है कि भाजपा के वोट आ भी जाएं, लेकिन एनडीए बनाने के क्रम में मोदी छंट जाएंगे। पता नहीं राजनाथ के नाम पर सहमति बनेगी या नहीं, हालांकि राजनाथ ने काफी सधी हुई रणनीति से ठाकुरों को पूर्वांचल में टिकट दिए हैं। संघ के भीतर तो ठाकुरों को लेकर भी रिजर्वेशन है ही। हां, ब्राह्मण अगर नाराज़ है तो मुझे लगता है कि हमें एक ऐसे उम्‍मीदवार की कोशिश करनी होगी जो भाजपा के ब्राह्मण वोट काट सके।

मतलब ब्राह्मणवाद इस बार फासीवाद की काट होगा?
(हंसते हुए) हो सकता है... ब्राह्मणवाद के साथ तो हम लोग जीते ही आए हैं, उसे बरदाश्‍त करने की हमारी आदत है, कुछ और सह लेंगे। लेकिन फासीवाद तो मौका ही नहीं देगा।

क्‍यों नहीं ऐसा करते हैं कि हिंदी के व्‍यापक लेखक, बुद्धिजीवी, संस्‍कृतिकर्मी समुदाय की ओर से आप ही प्रतीक के तौर पर चुनाव लड़ जाएं मोदी के खिलाफ़?
(ठहाका लगाते हुए) देखो, हमें जो करना है वो तो हम करेंगे ही। हमने पहले भी ऐसे मौकों पर अपनी भूमिका निभाई है, आज भी हम तैयारी में जुटे हैं। अभी महीना भर से ज्‍यादा का वक्‍त है। उम्‍मीद है दस-बारह दिन में कोई ठोस कार्यक्रम बने। मैंने प्रलेस, जलेस, जसम आदि संगठनों से और खासकर शहर के रंगकर्मियों से बात की है। शबाना आज़मी, जावेद अख्‍़तर, गुलज़ार आदि को शहर में लाने की बात चल रही है। कुछ तो करेंगे ही, चुप नहीं बैठेंगे।

चुनाव और मोदी के संदर्भ में नामवरजी से कोई संवाद...?
नहीं, अब तक तो उनसे कोई बात नहीं हुई है। देखते हैं... करेंगे।


(शुक्रवार पत्रिका में प्रकाशित और साभार) 

4/04/2014

बनारस धूल बैठने का इंतज़ार कर रहा है

अभिषेक श्रीवास्‍तव 

बनारस से लौटकर 




बनारस में ज्ञान की खोज कबीर की देह पर गुरु रामानंद के पैर पड़ जाने जैसी कोई परिघटना होती है। यहां सायास कुछ भी नहीं मिलता, निरायास सब मिल जाता है। यहां बहसें हर ओर हैं, लेकिन बात को पकड़ना मुश्किल है। बात, कही भी जा सकती है। बात, अनकही भी होती है। मसलन, मणिकर्णिका घाट की सीढि़यों से ठीक पहले गली में एक चाय की दुकान पर पांच नौजवान अख़बार के पन्‍ने पलट रहे हैं। दिन के दो बजे हैं। एक के बाद एक शवों की आमद जारी है। अचानक एक नौजवान पास में गुमसुम बैठे अधेड़ उम्र के एक शख्‍स को संबोधित करते हुए एक ख़बर का शीर्षक पढ़ता है, ''गुरुजी, ई देखा, का छपल हौ। मगरमच्‍छ से खेलते थे बाल नरेंद्र!'' अधेड़ व्‍यक्ति किसी भार को गरदन पर से हटाते हुए पूरी मेहनत से सिर उठाता है और कहता है, ''मगरमच्‍छ से खेला, शेर से खेला, सियार से खेला, बाकी आदमी से मत खेला। यहां तो आदमी ही आदमी से खेल रहा है।''

बीते छह दशक से इस देश में चल रहे आदमी और आदमी के बीच के खेल की सबसे बड़ी पारी का इस बार गवाह बने बनारस की फि़ज़ां में टनों धूल उड़ रही है। हमेशा सड़कों पर रहने वाले यहां के लोगों ने अपने मुंह पर काली पट्टी बांध रखी है। चौकाघाट पर ड्यूटी बजा रहे हवलदार सालिकराम यादव मुंह पर बंधी काली पट्टी के भीतर से बोलते हैं, ''और क्‍या किया जाए? टीबी-कैंसर होने से तो अच्‍छा है न कि मुंह-नाक बंद कर के रखें।'' यहां सड़कें पहले भी बनी हैं। काफिले पहले भी गुज़रे हैं। धूल पहले भी उड़ी है। दो दशक पहले लालकृष्‍ण आडवाणी की रथयात्रा के लिए यहां सड़कें बनी थीं तो बाबरी ढहा दी गई। धूल इतनी उड़ी कि धुंध में लोगों को पता ही नहीं चला कि किसकी तलवार है और किसका सिर। तब एक नज़ीर बनारसी हुआ करता था जिसने अपनी जान जोखिम में डाली थी। फिर बरसों बाद दीपा मेहता की फिल्‍म के सेट पर धूल उड़ी तो मदनपुरा में खुद नज़ीर का मकान इस धुंध का शिकार बन गया। इस बार न नज़ीर हैं न उनका मकान। धूल पुरज़ोर है। बनारस के लोगों ने फिलहाल खुद को बचाने के लिए काली पट्टियों को बांधने की नायाब तरकीब निकाली है। हर आदमी जैन मुनि लग रहा है, सिवाय उस काले रंग के, जो अपने भीतर एक प्रतिरोध को समोए हुए है।

यह प्रतिरोध आपको ऊपर से नहीं दिखेगा। ऊपर सिर्फ हवा है। लहर है। धूल है। यह धूल हर हर कर के बरस रही है टीवी कैमरों के सामने और फोटोग्राफरों के लेन्‍स को चीरती हुई। कैमरे की आंख से जो दिख रहा है, वह बनारस नहीं है, इस बात की ताकीद करने वालों की पूरी एक कौम है जो मौत से भी ठंडी गलियों और चबूतरों पर गरदन झुकाए बैठी है। उन्‍हें पूछने वाला अबकी कोई नहीं है। जिन्‍होंने बनारस के अस्‍सी पर शामें गुजारी हैं, वे जानते हैं कि यह प्रतिरोध पप्‍पू की चाय की दुकान पर नहीं, पोई की दुकान पर मौजूद है। वे जानते हैं कि लंका पर केशव के यहां धूल उड़ती मिलेगी, उसके नीचे की परतें टंडनजी की दुकान पर ही दिख सकती हैं। बनारस हिंदू विश्‍वविद्यालय के पुराने छात्र नेता राकेश मिश्रा कहते हैं, ''मोदी की लड़ाई इतनी आसान नहीं है। लोग जानते हैं कि मोदी के आने के बाद इस शहर में क्‍या होगा, लेकिन संकट ये है कि मोदी विरोधी वोटों को इकट्ठा करने वाला कोई दमदार उम्‍मीदवार नहीं है।''


इस बार बनारस से लोकसभा चुनाव के उम्‍मीदवारों के नाम देखिए: बसपा से विजय जायसवाल, सपा से कैलाश चौरसिया, आम आदमी पार्टी से अरविंद केजरीवाल, कौमी एकता दल से मुख्‍तार अंसारी और भाजपा से नरेंद्र मोदी। कांग्रेस से अभी नाम तय नहीं हुआ है। दिग्विजय सिंह, अजय राय, राजेश मिश्रा, संकटमोचन के महंत विश्‍वम्‍भर मिश्रा और काशी नरेश के पुत्र अनंत नारायण सिंह के नामों पर दांव लगाया जा रहा है। शुरुआत में सभी भाजपा विरोधी दलों द्वारा एक संयुक्‍त उम्‍मीदवार की बात आई थी, लेकिन इसके परवान चढ़ने से पहले ही सबने अपने-अपने उम्‍मीदवार घोषित कर दिए। उधर अपना दल के साथ भाजपा का समझौता हो गया जिसके कारण पटेल-भूमिहार बहुल रोहनिया संसदीय क्षेत्र का समीकरण बदल चुका है। प्रत्‍याशियों के लिहाज से बेशक नरेंद्र मोदी सबसे मज़बूत उम्‍मीदवार दिखते हैं, लेकिन सवाल बड़ा है कि आखिर भाजपा को वोट कौन देगा?

राकेश मिश्रा बताते हैं, ''भाजपा के बनारस में कुल एक लाख 70 हज़ार ठोस वोट हैं। आप अगर पिछले चुनावों में भाजपा प्रत्‍याशियों को मिले वोट देखें, तो यह दो लाख से कुछ कम या ज्‍यादा ही बना रहता है। इसका मतलब ये है कि मोदी के आने से जो हवा बनी है, उससे अगर पचास हज़ार फ्लोटिंग वोट भी भाजपा में आते हैं तो करीब ढाई लाख वोट पार्टी को मिल सकेंगे। इससे निपटने के लिए ज़रूरी होगा कि मुसलमान एकजुट होकर वोट करे। अगर मुख्‍तार मैदान में आ गए, तो यह संभव हो सकता है क्‍योंकि पिछली बार वोटिंग के दिन ही दोपहर में अजय राय और राजेश मिश्रा ने यह हवा उड़ाई थी कि मुख्‍तार जीत रहे हैं और पक्‍का महाल के घरों से लोगों को निकाल-निकाल कर मुरली मनोहर जोशी को वोट डलवाया था जिसके कारण जोशी बमुश्किल 17000 वोट से जीत पाए। अगर ऐसा नहीं किया जाता, तो जोशी हार जाते।'' कुछ और लोगों का मत है कि मुख्‍तार के आने से वोटों का ध्रुवीकरण हो जाएगा और नरेंद्र मोदी की जीत सुनिश्चित हो जाएगी। कांग्रेस पार्टी के युवा नेता मोहम्‍मद इमरान का मानना है कि मुख्‍तार के लिए अपने प्रचार का इससे बढि़या मौका नहीं होगा और वे मोदी से पक्‍का डील कर लेंगे। इधर बनारस से लेकर दिल्‍ली तक 25 मार्च की रात के बाद से चर्चा आम है कि मुख्‍तार से मोदी से कुछ करोड़ की डील कर ही ली है। अपना दल और भाजपा के बीच भी सौ करोड़ के सौदे की चर्चा है तो लखनऊ के सियासी गलियारों में पैठ रखने वाले मान रहे हैं कि राजनाथ सिंह ने पूर्वांचल में अपने उम्‍मीदवार मुलायम सिंह यादव से एक सौदेबाज़ी के तहत उतारे हैं। जितने मुंह, उतनी बातें। सारी बहस मोदी और मोदी विरोधी संभावित मजबूत उम्‍मीदवार पर टिकी है, जिनमें ज़ाहिर है कि एक बहस अरविंद केजरीवाल को लेकर भी है।

केजरीवाल बनारस की चुनावी बहस में 25 मार्च के बाद आए हैं। उससे पहले लोग उनका नाम सुनते ही हंस दे रहे थे। दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री पद से इस्‍तीफा देना केजरीवाल के लिए नकारात्‍मक साबित हुआ है। लोग खुलेआम पूछ रहे हैं कि जब वे हर बात पर जनता से राय लेते हैं, तो क्‍या इस्‍तीफा देने से पहले भी उन्‍हें जनता से रायशुमारी नहीं करना चाहिए थी। बात वाजिब भी है, लेकिन मोदी के नाम पर उड़ाई जा रही धूल और चलाई जा रही हवा में केजरीवाल को दरअसल खारिज करने का भाव यहां ज्‍यादा है, गोया उन्‍हें मोदी के खिलाफ चुनाव में उतरने का कोई अधिकार ही न हो। यह एक किस्‍म का अंदरूनी भय है, जिसके बारे में पूछे जाने पर मोदी समर्थक हिंसक तरीके से ''मोदी मोदी'' चिल्‍ला उठते हैं। यही भय 25 की सुबह रोड शो के दौरान केजरीवाल के ऊपर स्‍याही और अंडे फेंके जाने में दिखा। अरविंद की रैली से ठीक पहले बेनियाबाग मैदान के बाहर ड्यूटी पर खड़े पुलिसवालों की राय थी कि अगर मुख्‍तार अपना नाम वापस ले लें, तो केजरीवाल अकेले मोदी के लिए काफी होगा। उनके मुताबिक मुख्‍तार के आने से मोदी की जीत की संभावना बढ़ जाएगी। सामान्‍य तौर पर लोग यह मान रहे हैं कि अरविंद की ज़मानत नहीं बचेगी। ये लोग अधिकतर सवर्ण हैं जिनका दूसरे समुदायों के वोटिंग पैटर्न से ज्‍यादा लेना-देना नहीं है। बीस हज़ार लोगों से खचाखच भरे बेनिया मैदान में हुई अरविंद की रैली में मोमिन कॉन्‍फ्रेंस, बुनकर समाज, वाल्‍मीकि समाज, दस्‍तकारी-ज़रदोज़ी समिति और मुफ्ती की मंच पर मौजूदगी ने हालांकि उन्‍हें खारिज करने वाले कुछ लोगों को दोबारा सोचने पर मजबूर किया है।


बीएचयू के पुराने छात्र नेता और आजकल कांग्रेस पार्टी के कार्यक्रम गांव, गरीब, गांधी यात्रा के संयोजक विनोद सिंह एक मार्के की बात कहते हैं, ''अरविंद केजरीवाल कांग्रेस का नया भिंडरावाले हैं। जिस तरह कांग्रेस ने अकालियों को खत्‍म करने के लिए पंजाब में भिंडरावाले को प्रमोट किया था और अंतत: वह खुद कांग्रेस के लिए भस्‍मासुर साबित हुआ, उसी तरह केजरीवाल भी नरेंद्र मोदी के खिलाफ कांग्रेस के सहयोग से तो उतर गए लेकिन वह कांग्रेस का ही सफाया कर बैठेंगे। केजरीवाल मोदी के वोट नहीं काटेंगे, बल्कि भाजपा विरोधी वोट काटेंगे। इसके बावजूद उनकी बनारस में बहुत बुरी हार होनी तय है क्‍योंकि बनारस का एक-एक आदमी जानता है कि काल भैरव के दरबार में कम से कम बनारस का आदमी तो अंडा नहीं फेंक सकता। यह काम खुद केजरीवाल के वेतनभोगी कार्यकर्ताओं का किया-धरा है जिन्‍हें लेकर वे दिल्‍ली से आए थे।''

बनारस की चुनावी हवा में दो बातें बहुत विश्‍वास के साथ तैर रही हैं। पहली यह, कि नरेंद्र मोदी का जीतना तय है। दूसरी यह, कि केजरीवाल की ज़मानत ज़ब्‍त हो जाएगी। नरेंद्र मोदी कैसे जीतेंगे, यह तर्क गायब है। उसी तरह केजरीवाल की ज़मानत क्‍यों ज़ब्‍त होगी, इसकी व्‍याख्‍या भी नदारद है। इन दो बातों को समझने के लिए बनारस के कुछ बाहरी इलाकों, आज़मगढ़, प्रतापगढ़ और लखनऊ से मिल रहे बदलावकारी संकेतों को उठाया जा सकता है। सबसे पहला संकेत यह है कि उत्‍तर प्रदेश का ब्राह्मण समुदाय भारतीय जनता पार्टी से क्षुब्‍ध है। हरीन पाठक से लेकर जोशी, कलराज मिश्र, लालमुनि चौबे आदि के साथ पार्टी के भीतर जो सुलूक किया गया है और जिस तरीके से राजनाथ सिंह ने पूरे पूर्वांचल को ठाकुर प्रत्‍याशियों से घेर दिया है, उससे एक संदेश यह गया है कि ब्राह्मणों के साथ भाजपा में नाइंसाफी हुई है। लखनऊ के वरिष्‍ठ पत्रकार और समाजसेवी रामकृष्‍ण की मानें तो बसपा द्वारा 21 सीटों पर ब्राह्मण प्रत्‍याशियों को खड़ा किया जाना एक सुखद संकेत है और संभव है कि ब्राह्मण एक बार फिर भाजपा को दगा दे जाएं। दूसरी बात, आजमगढ़ से मुलायम सिंह यादव के खड़े होने के नाते भाजपा का यादव वोटर भी इस बार सपा को वोट देगा, यह बात उतनी ही तय है जितनी यह कि कानपुर में जोशी और लखनऊ में राजनाथ सिंह की हार हो सकती है। मुज़फ्फरनगर दंगों पर पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा राज्‍य सरकार को दोषी ठहराए जाने की घटना ने पूर्वांचल के मुसलमानों के ज़ख्‍म हरे कर दिए हैं। प्रतापगढ़ में प्‍लाइवुड का कारोबार करने वाले मो. रईस कहते हैं, ''सपा को तो वोट देने का सवाल ही नहीं उठता।'' अरविंद केजरीवाल की रैली के दिन बनारस की नई सड़क पर हर दुकानदार एक ही बात कहते मिला, ''यह बंदा मोदी को फाइट देगा।''

कौन किसको फाइट देगा, कौन किसको वोट, इस पर कुछ भी कहना अभी खतरे से खाली नहीं है। अरविंद की रैली से एक दिन पहले रोहनिया में गंगा किनारे स्थित शूलटंकेश्‍वर महादेव पर रवींद्र श्रीवास्‍तव नाम के एक सज्‍जन मिले। वे कठपुतली के माध्‍यम से सरकारी शिक्षकों को प्रशिक्षण देते हैं। बात-बात में सौ बातों की एक बात कह बैठे, ''बस पिक्‍चर बदलती रहती है, हॉल तो वही रहता है। सब कठपुतली हैं। कौन किसे नचा देगा, यह तो एक दिन पहले ही तय होगा। बाकी आप दिमाग लगाते रहिए।'' इस बात पर दो दिन पहले आदमी से आदमी के खेल की बात कहने वाले मणिकर्णिका पर मिले वे अधेड़ सज्‍जन अचानक याद आए जिन्‍होंने ''हर हर मोदी'' का नारा लगाने वाले नौजवानों की ओर कातर निगाहों से देखते हुए एक शेर पढ़ा था, ''चुप हूं कि पहरेदार लुटेरों के साथ है / रोता हूं इसलिए क्‍योंकि घर की बात है।''


घर की बात घर ही में रह जाए तो अच्‍छा। बाहर वालों से इसे साझा करना ठीक नहीं माना जाता। सब बोल रहे हैं, अपने-अपने तरीके से शहर को तौल रहे हैं, लेकिन बनारस फिलहाल अपने मुंह पर काली पट्टियां बांधे बाहरियों की उड़ाई धूल के बैठने का इंतज़ार कर रहा है। सुंदरपुर में काशीनाथ सिंह के घर से लेकर लखनऊ के हुसैनगंज के बीच चुपचाप एक मोर्चा शक्‍ल ले रहा है। जब मई की तपन में नई बनी सड़कों का कोलतार पिघलेगा, तब बनारस में कबीरा जागेगा।  

(शुक्रवार पत्रिका में प्रकाशित और साभार)  

प्रकाशित सामग्री से अपडेट रहने के लिए अपना ई-मेल यहां डालें