4/20/2016

मैं और मेरा सच: जनपथ पर लंबे सन्नाटे का सबब


अभिषेक श्रीवास्तव 


बहुत से लोगों ने इधर बीच पूछा कि जनपथ क्‍यों ठप पड़ा हुआ है। मेरे पास कोई कन्विंसिंग जवाब नहीं था। अब भी नहीं है। अगर जवाब जानना ही हो तो आप इसे प्रथम दृष्‍टया आलस्‍य कह सकते हैं। आलस्‍य भी क्‍या, मेरे हिसाब से एक किस्‍म की अन्‍यमनस्‍कता, एक बेपरवाही वाला भाव। जवाब इससे भी हालांकि पूरा नहीं होता। अब जब लिख ही रहा हूं, तो कायदे से बात हो जानी चाहिए।

प्रकाशित सामग्री से अपडेट रहने के लिए अपना ई-मेल यहां डालें