8/08/2016

भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार-2016 के निर्णायक उदय प्रकाश का आधिकारिक वक्‍तव्‍य

(कवयित्री शुभमश्री को मिले भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार पर विवाद लगातार जारी है। उनकी कविताओं का हर कोई अपने तरीके से मूल्‍यांकन कर रहा है और पक्ष या विपक्ष में आवाज़ें आ रही हैं। ऐसे में यह जानना ज़रूरी हो जाता है कि पुरस्‍कार के निर्णायक कथाकार उदय प्रकाश ने क्‍या सोच कर 'पोएट्री मैनेजमेंट' को इस बार का भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार दिया। निर्णायक के वक्‍तव्‍य के बाद शायद कुछ धूल छंटे और स्‍वस्‍थ बहस का रास्‍ता खुले। जनपथ पर पढ़ें निर्णायक उदय प्रकाश का 2016 के भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार पर आधिकारिक वक्‍तव्‍य - मॉडरेटर) 



भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार-2016 के निर्णायक उदय प्रकाश का आधिकारिक वक्‍तव्‍य

(कवयित्री शुभमश्री को मिले भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार पर विवाद लगातार जारी है। उनकी कविताओं का हर कोई अपने तरीके से मूल्‍यांकन कर रहा है और पक्ष या विपक्ष में आवाज़ें आ रही हैं। ऐसे में यह जानना ज़रूरी हो जाता है कि पुरस्‍कार के निर्णायक कथाकार उदय प्रकाश ने क्‍या सोच कर 'पोएट्री मैनेजमेंट' को इस बार का भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार दिया। निर्णायक के वक्‍तव्‍य के बाद शायद कुछ धूल छंटे और स्‍वस्‍थ बहस का रास्‍ता खुले। जनपथ पर पढ़ें निर्णायक उदय प्रकाश का 2016 के भारत भूषण अग्रवाल पुरस्‍कार पर आधिकारिक वक्‍तव्‍य - मॉडरेटर) 



8/04/2016

ये शहर आब को तरसेगा चश्‍म-ए-तर के बगैर...


बनारस: सावन, 2016 


अभिषेक श्रीवास्‍तव 





एक 

ये कहानी सावन की है। सावन, जो बीते कुछ वर्षों में पहली बार ऐसे आया है गोया वाकई पहली बार ही आया हो। वरना हर बार सावन बीत जाता था और मन सूखा रह जाता था। इस बार चहुंओर बरसा है। ठीकठाक बरसा है। इस बारिश का ही जादू था, रामजी यादव के न्‍योते का कम, कि हम बीते शनिवार झोला उठाकर कांवडि़यों की भीड़ को चीरते हुए काशी विश्‍वनाथ से खरामा-खरामा बनारस पहुंच गए।


प्रकाशित सामग्री से अपडेट रहने के लिए अपना ई-मेल यहां डालें